Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गृह मंत्रालय तैयार करेगा एनडीआरएफ की दो नई बटालियन, शामिल होंगे 2000 जवान

हम इसे दुरूस्त करने और पुनर्गठन करने का काम लगभग पूरा कर चुके

गृह मंत्रालय तैयार करेगा एनडीआरएफ की दो नई बटालियन, शामिल होंगे 2000 जवान
नई दिल्ली. सरकार ने राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की दो नई बटालियन स्थापित करने का फैसला किया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि एनडीआरएफ की दो नई बटालियनों (2,000 कर्मियों )की आवश्यकता महसूस की जा रही है क्योंकि बल ने आपदा प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान राहत सामग्री वितरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) का जल्द ही पुनर्गठन किया जाएगा जिससे कि यह आपदा प्रबंधन गतिविधियों में और बड़ी भूमिका निभा सके।
उन्होंने एनडीएमए के स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में कहा,हमने एनडीएमए के पुनर्गठन का फैसला किया है। इसे दुरूस्त किया जाना है। हम इसे दुरूस्त करने और पुनर्गठन करने का काम लगभग पूरा कर चुके हैं।राजनाथ ने कहा कि एनडीएमए को दुरूस्त किए जाने की पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिशा निर्देश के अनुरूप की गई है। सरकार एनडीएमए के उपाध्यक्ष पद का स्तर पहले ही केंद्रीय केबिनेट मंत्री के दर्जे से घटाकर केबिनेट सचिव के स्तर तक कर चुकी है। एनडीएमए के सदस्यों का दर्जा केंद्रीय राज्य मंत्री के दर्जे से घटाकर केंद्र सरकार के सचिव स्तर का किया जा चुका है ।
प्रधानमंत्री एनडीएमए के अध्यक्ष हैं। जम्मू कश्मीर में बाढ़ के दौरान संचार नेटवर्क पूरी तरह तबाह हो जाने का जिक्र करते हुए राजनाथ ने कहा कि देश में एक नया बाधारहित संचार नेटवर्क स्थापित किया जाएगा, ताकि आपात स्थिति के दौरान काम सुचारू ढंग से किया जा सके।उन्होंने कहा,एक नया तंत्र विकसित किया जा रहा है और हम जल्द ही एक नए बाधा रहित संचार नेटवर्क के साथ आएंगे।
दूरसंचार विभाग के साथ हाल में एक बैठक में गृहमंत्री ने संचार प्रणाली को मजबूत करने के निर्देश दिए थे जो अधिक क्षमता के साथ राष्ट्रीय आपदाओं को सह सके। प्रौद्योगिकी विभाग में एक समिति स्थापित की गई थी जो आपदाओं के दौरान संचार सुधारने के लिए दो महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी ।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर
Next Story
hari bhoomi
Share it
Top