Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर गूगल सीईओ और जकरबर्ग ने जताई नाराजगी

मुस्लिम देशों में काम कर रहे गूगल के सभी कर्मचारियों को वापस अमेरिका बुलाया गया।

राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर गूगल सीईओ और जकरबर्ग ने जताई नाराजगी
नई दिल्ली. अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा मुस्लिम देशों पर लगाए गए बैन को लेकर दुनिया भर के देशों में आलोचना हो रही है। लेकिन ट्रंप के इस फैसले को लेकर गूगल सीईओ सुंदर पिचाई और फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की है।
बता दें कि भारतीय मूल के गूगल सीईओ सुंदर पिचाई ने इस फैसले की घोर निंदा की है। उन्होंने इस फैसले के प्रति कड़ी आपत्ति जताई है। इस फैसले के बाद सुंदर पिचाई ने कंपनी के लगभग 100 लोगों को वापस बुलाया है जो अमेरिका से बाहर काम कर रहे हैं। सुंदर पिचाई ने कहा यह फैसला अमेरिका में आनेवाले टैलेंट के लिए एक रूकावट जैसा है। उन्होंने कहा यह बेहद दुखद है इस आदेश से हमारे सहकर्मियों को काफी परेशानियां से गुजरना होगा साथ ही उनके परिवारवालों को भी इसे भुगतना पड़ेगा।
तो वहीं दूसरी तरफ फेसबुक सीईओ जुकरबर्ग और नोबेल विजेता मलाला युसुफजाई ने निंदा की थी। जुकरबर्ग ने कहा कि अमेरिका आव्रजकों का देश है और देश को इस पर गर्व होना चाहिए। जुकरबर्ग ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि आप जैसे कई लोगों की तरह, मैं भी राष्ट्रपति ट्रंप के उन शासकीय आदेशों के प्रभावों को लेकर चिंतित हूं जिन पर उन्होंने हाल ही में हस्ताक्षर किए हैं।
उन्होंने आगे लिखा कि हमें इस देश को सुरक्षित रखने की जरूरत है, लेकिन हमें ऐसा उन लोगों पर ध्यान देकर करना चाहिए जिनसे वाकई में हमें खतरा है। हमें अपने दरवाजे शरणार्थियों के लिए और ऐसे लोगों के लिए जिन्हें हमारी जरूरत है, खुले रखने चाहिए। यही हमारी पहचान हैं। उन्होंने यह भी लिखा है कि अगर हमने कुछ दशक पहले शरणार्थियों से मुंह फेर लिया होता तो प्रेसिलिया का परिवार आज यहां नहीं होता। जुकरबर्ग ने बताया कि उनकी पत्नी प्रेसिलिया का परिवार चीन और वियतनाम शरणार्थी के रूप में आया था। गौरतलब हो कि ट्रंप के नयी वीजा नीति के अनुसार 7 मुस्लिम देशों को तीन माह तक वीजा देन पर रोक लगा दी गई है। जिसके तहत सीरिया, सूडान, ईरान, इराक, लीबिया, यमन और सोमालिया के नागरिकों पर वीजा पाबंदी लगा दी गई है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top