Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ट्रंप के राष्ट्रपति बनते ही H-1B वीजा पर कसेगा शिकंजा, भारतीयों पर खतरा

एच-1B वीजा पर अमेरिका में काम करने वाले लाखों भारतीयों को एक बड़ा झटका लग सकता है।

ट्रंप के राष्ट्रपति बनते ही H-1B वीजा पर कसेगा शिकंजा, भारतीयों पर खतरा
वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति का पद संभालते ही डोनाल्ड ट्रंप ने 'अमेरिका फर्स्ट' का नारा दे दिया। बतौर राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका को अमेरिकियों का देश बनाने की बात कही है। अपने पहले भाषण में उन्होंने यह साफ कर दिया कि उनका प्रशासन अमेरिकी नौकरियों में स्थानीय लोगों को तवज्जो देगा। बता दें कि इससे H-1B वीजा पर अमेरिका में काम करने वाले लाखों भारतीयों को एक बड़ा झटका लग सकता है।
शपथ ग्रहण के बाद दिए भाषण में ट्रंप ने कहा, 'बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन।' मतलब साफ है कि ट्रंप प्रशासन अमेरिकी कंपनियों पर स्थानीय लोगों की भर्ती के लिए दबाव बनाएगा। साथ ही अमेरिकी कंपनियों के प्रॉडक्ट्स की खरीदारी को बढ़ावा मिलने जा रहा है।
टाइम्स अॉफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इससे पहले अमेरिकी संसद के उच्च सदन सीनेट के सदस्य चक ग्रैसले और डिक डर्बन ने कहा कि वो H-1B वीजा देने में अमेरिकी विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले विदेशियों को प्राथमिकता दिए जाने का प्रस्ताव करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे विदेशियों को कम वक्त का वीजा जारी करने के कार्यक्रम के बारे में नया कानून बनाने का प्रस्ताव करेंगे। दोनों सांसदों ने कहा कि प्रस्तावित विधेयक के प्रावधानों के तहत अमेरिका के नागरिकता एवं आव्रजन विभाग को H-1B वीजा जारी करते समय अमेरिकी संस्थानों में शिक्षित-प्रशिक्षित 'सबसे तेज एवं प्रतिभाशाली' विद्यार्थियों को प्राथमिकता देनी होगी।
जानिए क्या है H-1B वीजा और इसकी उपयोगिता-
H-1B वीजा बाहरी विशेषज्ञों को अमेरिका आकर वहां अपनी विशेषज्ञता का लाभ देने के लिए जारी किया जाता है। पिछले कुछ सालों से इसे लगातार महंगा और मुश्किल बनाया जा रहा है, लेकिन भारतीय इंजिनियरों का मेहनताना अमेरिकी इंजिनियरों की तुलना में इतना कम पड़ता है कि कंपनियां थोड़ा नुकसान उठाकर भी उन्हें हायर करना या भारत से अमेरिका ट्रांसफर करना बेहतर समझती हैं।
ट्रंप ने अमेरिकी कंपनियों में विदेशी कामगारों की नौकरी के मुद्दे को अपने चुनाव अभियान में जोर-शोर से उठाया था। राष्ट्रपति चुने जाने के बाद भी वह लगातार कहते रहे कि अमेरिकियों की जगह विदेशी कामगारों को नौकरी पर रखे जाने की अनुमति नहीं देंगे। उन्होंने डिज्नी वर्ल्ड और उन दूसरी अमेरिकी कंपनियों का हवाला दिया जहां भारतीय कामगारों समेत H-1B वीजा पर अमेरिका आए अन्य विदेशियों ने अमेरिकियों की नौकरियां छीन लीं। इसलिए ट्रंप ने कहा कि हम अपनी नौकरियां वापस लाएंगे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top