Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ट्रंप प्रशासन ने चुनाव में दखलंदाजी को लेकर रूसी जासूसों पर लगाए कई प्रतिबंध

अमेरिका ने 2016 के चुनाव में कथित हस्तक्षेप करने और अलग- अलग साइबर हमले करने को लेकर रूस की शीर्ष जासूसी एजेंसियों और साइबर गतिविधियों में लिप्त लोगों पर सिलसिलेवार प्रतिबंध लगाया है।

ट्रंप प्रशासन ने चुनाव में दखलंदाजी को लेकर रूसी जासूसों पर लगाए कई प्रतिबंध

अमेरिका ने 2016 के चुनाव में कथित हस्तक्षेप करने और अलग- अलग साइबर हमले करने को लेकर रूस की शीर्ष जासूसी एजेंसियों और साइबर गतिविधियों में लिप्त लोगों पर सिलसिलेवार प्रतिबंध लगाया है। वित्त विभाग ने पांच संस्थानों और 19 लोगों को नामित किया है।

वित्त मंत्री स्टीवन टी मुशीन ने बताया कि ट्रंप प्रशासन अमेरिकी चुनाव में रूसी साइबर दखलंदाजी, विनाशकारी साइबर हमलों और अहम प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने वाली सेंधमारी सहित अन्य हरकतों का मुकाबला कर रहा है।

यह भी पढ़ें- YSR कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ दिया अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस, जानिए वजह

मुशीन ने बताया कि ये प्रतिबंध रूस से होने वाले नापाक हमलों को रोकने की कोशिश का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा कि वित्त विभाग का इरादा अतिरिक्त काउंटरिंग अमेरिका एडवर्सरी थ्रू सैंक्शन एक्ट (सीएएटीएसए) प्रतिबंध लगाने का है ताकि रूसी सरकारी अधिकारियों को उनकी हरकतों के लिए जवाबदेह ठहराया जा सके।

व्हाइट हाउस और ब्रिटिश सरकार द्वारा जारी बयानों के मुताबिक यह साइबर हमला इतिहास में सबसे विध्वंसकारी साइबर हमला है। इस हमले से समूचे यूरोप, एशिया और अमेरिका में अरबों डॉलर का नुकसान हुआ। साथ ही, अमेरिका में कई अस्पताल हफ्ते भर से अधिक समय तक इलेक्ट्रानिक रिकार्ड नहीं बना सके।

यह भी पढ़ें- तेलंगाना की 3 राज्यसभा सीटों के लिए मैदान में 4 प्रत्याशी, इनमें रहेगी कांटे की कड़ी टक्कर

वित्त विभाग ने कहा कि दो ब्रिटिश नागरिकों की हत्या की कोशिश में एक मिलिट्री ग्रेड नर्व एजेंट का हालिया इस्तेमाल एक लापरवाह और गैर जिम्मेदाराना आचरण को दिखाता है।

Next Story
Top