Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

त्रिपुरा में पंचायत उपचुनावों में भाजपा का परचम, 96 फीसदी सीटों पर जीते निर्विरोध

त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा ने त्रिस्तरीय पंचायत उपचुनाव में तकरीबन 96 फीसदी सीटों पर निर्विरोध जीत हासिल की। राज्य में ये उपचुनाव 30 सितंबर को होने वाले थे।

त्रिपुरा में पंचायत उपचुनावों में भाजपा का परचम, 96 फीसदी सीटों पर जीते निर्विरोध

त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा ने त्रिस्तरीय पंचायत उपचुनाव में तकरीबन 96 फीसदी सीटों पर निर्विरोध जीत हासिल की। राज्य में ये उपचुनाव 30 सितंबर को होने वाले थे।

राज्य चुनाव आयुक्त जी के राव ने मंगलवार को कहा कि भाजपा और इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) गठबंधन के मार्च में सत्ता में आने पर बड़ी संख्या में ग्राम पंचायत, पंचायत समितियों और जिला परिषदों के सदस्यों के इस्तीफा देने पर 3000 से अधिक सीटें खाली हो गईं।

इसे भी पढ़ें- गोवा: पर्रिकर सरकार को बर्खास्त करने की मांग को लेकर राज्यपाल से मिलेंगे कांग्रेसी विधायक

विपक्षी पार्टियों और भाजपा से अलग ग्रामीण उपचुनाव लड़ रही आईपीएफटी ने आरोप लगाया है कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को भाजपा ने इस्तीफा देने पर मजबूर किया और इसने उनके उम्मीदवारों को चुनाव के लिये नामांकन पत्र दायर करने की अनुमति नहीं दी।

उपचुनाव 3386 सीटों पर होने वाले थे। इनमें से ग्राम पंचायत की 3207, पंचायत समिति की 161, 18 जिला परिषदों की सीटें भी शामिल थीं। हालांकि, इनमें से 3247 सीटों (95.89 फीसदी) पर भाजपा को निर्विरोध जीत हासिल हुई।

राव ने पीटीआई-भाषा से कहा कि अब 30 सितंबर को उपचुनाव सिर्फ 132 ग्राम पंचायत सीटों और सात पंचायत समिति सीटों पर ही होंगे। शेष सीटों पर भाजपा को निर्विरोध जीत हासिल हुई।

इसे भी पढ़ें- पाकिस्तान: पीएम बनने के बाद पहली विदेश यात्रा पर सऊदी अरब गए इमरान खान

विपक्षी पार्टियों और आईपीएफटी की चुनाव स्थगित करने की मांग पर उन्होंने कहा कि अब ऐसा नहीं किया जा सकता क्योंकि जिन कार्यालयों में नामांकन पत्र दाखिल किया गया वहां कोई हिंसा नहीं हुई। विपक्षी दलों और आईपीएफटी ने आरोप लगाया था कि भाजपा ने उनके उम्मीदवारों को नामांकन पत्र दायर नहीं करने दिया।

राव ने कहा कि प्रखंड विकास पदाधिकारियों के खिलाफ एक भी शिकायत नहीं है जिन्होंने ग्राम पंचायत चुनावों में चुनाव अधिकारी के तौर पर काम किया या जिलाधिकारियों के खिलाफ भी कोई शिकायत नहीं है जिन्होंने जिला परिषद चुनावों में चुनाव अधिकारी के तौर पर काम किया।

Next Story
Top