Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तीन तलाक पर शिया वक्फ बोर्ड का बड़ा बयान, तलाक देने वालों पर दर्ज हो बलात्कार का मुकदमा

तीन तलाक के मुद्दे पर उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने कहा कि तीन तलाक देने वालों के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा दर्ज होना चाहिए।

तीन तलाक पर शिया वक्फ बोर्ड का बड़ा बयान, तलाक देने वालों पर दर्ज हो बलात्कार का मुकदमा

अपने बयानों के लिये अक्सर चर्चा में रहने वाले उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने तीन तलाक देने वालों के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा दर्ज करने की वकालत की है।

रिजवी ने आज यहां जारी एक बयान में कहा कि रिश्तेदारों और दोस्तों को दावत देकर ब्याही गयी औरत को अकेले में तीन तलाक के जरिये अंधकारमय भविष्य में धकेलना ‘साजिशन किया हुआ बलात्कार' है, लिहाज़ा एक बार में तीन तलाक देने वालों के विरूद्ध धारा 376 (बलात्कार) के तहत मुकदमा दर्ज होना चाहिए।

रिजवी ने कल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर तीन तलाक देने वालों को तीन के बजाय 10 साल कैद का प्रावधान करने की मांग की थी। उन्होंने आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॅा बोर्ड को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि दुनिया में ज़्यादातर मुल्कों में एक सांस में तीन बार तलाक देने की प्रथा को खत्म किया जा चुका है।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक: सरकार ने जल्दबाजी में पास किया बिल: मल्लिकार्जुन खड़गे

तीन तलाक पर अमित शाह

रिजवी ने कहा कि अगर वक्त रहते बोर्ड ने मुस्लिम महिलाओं के साथ तीन तलाक के जरिये हो रहे जुल्म का एहसास करते हुए इस प्रथा को समाप्त कर दिया होता तो, आज इस पर कानून बनाने के हालात पैदा नहीं होते। वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी तीन तलाक पर भाजपा की जमकर तारीफ की है।

शाह ने तीन तलाक के खिलाफ कल लोकसभा में विधेयक पारित किए जाने को केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार का ‘क्रांतिकारी कदम' करार देते हुए आज कहा कि संसद के इतिहास में 28 दिसम्बर को स्वर्णिम दिन के रूप में दर्ज किया जाएगा।

शाह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ यहां एक अस्पताल की आधारशिला रखने के बाद कहा कि कल संसद में प्रधानमंत्री मोदी ने एक क्रांतिकारी कदम उठाया है। संसद के इतिहास में 28 दिसम्बर को एक स्वर्णिम दिन के रूप में लिखा जाएगा।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक: लोकसभा में ऐतिहासिक बिल हुआ पास, ओवैसी के सभी प्रस्ताव खारिज

तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट

उन्होंने कहा कि सरकार ने उच्चतम न्यायालय की मंशा के अनुरूप तीन तलाक के खिलाफ एक विधेयक पारित कराकर मुस्लिम महिलाओं पर तलाक के नाम पर हो रहे अत्याचारों समाप्त करने की दिशा में मजबूत कदम उठाया है।

शाह ने उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकारों पर विकास कार्यों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि अब प्रदेश की योगी सरकार केंद्र के साथ मिलकर किसानों की मदद तथा गरीबों के उत्थान के लिए पूरी तत्परता से काम करेगी।

पिछले दिनों नोएडा में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि उन्होंने उत्तर प्रदेश को गोद ले लिया है। यह उनके यूपी प्रेम तथा सबसे बड़े राज्य के विकास की मंशा को दर्शाता है। मोदी और योगी दोनों मिलकर देश और प्रदेश को आदर्श बना रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक पर बोले एमजे अकबर, 'इस्लाम नहीं कुछ मुसलमान मर्दों की जबरदस्ती खतरे में है'

तीन तलाक पर योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में सफलता से दुनिया में भाजपा की साख और बढ़ी है, और इससे हम विकास के ओर आगे बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कांच के लिये मशहूर फिरोजाबाद के विकास के लिए उनकी सरकार ‘एक जिला एक उत्पाद' की नीति को जल्दी ही क्रियान्वित करने जा रही है।

इसके पूर्व, मुख्यमंत्री योगी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री डॉक्टर अनिल जैन के पिता स्वर्गीय लाला कुंवर सेन जी की स्मृति में बनने वाले के. एस. चैरिटेबल हॉस्पिटल की आधारशिला रखी।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक: लोकसभा में ऐतिहासिक बिल हुआ पास, ओवैसी के सभी प्रस्ताव खारिज

तीन तलाक पर द्रमुक की मांग

वहीं द्रमुक ने आज आरोप लगाया कि केंद्र लोकसभा में तीन तलाक विधेयक को ‘‘जल्दबाजी' में लेकर आया। उसने कहा कि इसे स्थाई समिति के पास भेजा जाना चाहिए। लोकसभा ने कल तीन तलाक विधेयक को पारित कर दिया था जिसमें पति के लिए तीन साल की कैद का प्रावधान है।

द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने अपने बयान में तीन साल की कड़ी सजा के प्रावधान पर भी आपत्ति जताई और कहा कि क्या केंद्र में बैठी भाजपा सरकार असल में मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए चिंतित है। उन्होंने कहा कि तीन साल की सजा अनावश्यक है।

इसे भी पढ़ें: 1 जनवरी 2018 से होंगे ये बड़े बदलाव, जानें क्या होगा सस्ता और क्या मंहगा

तीन तलाक कानून पारित

स्टालिन ने कहा कि भाजपा सरकार ने लोकसभा में विधेयक लाने और तीन साल की कड़ी सजा के प्रावधान के साथ इसे पारित कराने में जल्दबाजी दिखाई...यह ऐसा नहीं लगता कि केंद्र मुस्लिम महिलाओं के बारे में चिंतित है।

तीन तलाक के मुद्दे पर सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि उच्च्तम न्यायालय ने केवल यह कहा था कि मामले में संसद कानून बना सकती है और तीन साल की जेल का कोई उल्लेख नहीं था। द्रमुक नेता ने कहा कि सरकार को कम से कम अब इसे संसद की स्थाई समिति के पास भेजना चाहिए।

Share it
Top