Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तीन तलाक बिल: सरकार के पास अब सिर्फ दो दिन, सेलेक्‍ट कमेटी की मांग पर अड़ा विपक्ष

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि कांग्रेस अप्रत्यक्ष रूप से तीन तलाक बिल का विरोध कर रही है।

तीन तलाक बिल: सरकार के पास अब सिर्फ दो दिन, सेलेक्‍ट कमेटी की मांग पर अड़ा विपक्ष

तीन तलाक बिल बुधवार को राज्यसभा में पेश हुआ जिसपर जमकर हंगामा हुआ। गुरुवार को फिर से सरकार इस बिल को पेश करवाने की कोशिश करेगी। राज्यसभा में संख्या बल न होने के कारण तीन तलाक बिल को पास कराना सरकार के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती है। विपक्ष की मांग है कि तीन तलाक बिल में खामियां हैं और उसे सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाना चाहिए।

बुधवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि कांग्रेस अप्रत्यक्ष रूप से तीन तलाक बिल का विरोध कर रही है। बता दें कि सरकार के पास शीतकालीन सत्र में बिल पास करवाने के लिए सिर्फ गुरुवार और शुक्रवार का वक्त शेष है।
ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने बुधवार को राज्यसभा में पेश किए गए तीन तलाक रोधी विधेयक की खामियों पर जोर देते हुए इसे प्रवर समिति के पास भेजे जाने की मांग करने वाली पार्टियों का शुक्रिया अदा करते हुए उम्मीद जाहिर की है कि वे सभी दल अपने-अपने रुख पर मजबूती से कायम रहेंगे।
बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना खलील उर रहमान सज्जाद नोमानी ने बताया कि ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड उन तमाम पार्टियों का शुक्रगुजार है, जिन्होंने आज राज्यसभा में इस बात पर जोर दिया कि तीन तलाक रोधी विधेयक में जो भी खामियां हैं, उनको दूर करने के लिए इसको प्रवर समिति के पास भेजा जाए। हम उम्मीद करते हैं कि सभी पार्टियां अपने-अपने रुख पर मजबूती से जमी रहेंगी। हम यह भी उम्मीद करते हैं कि भाजपा की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के और भी सांसद अपने जमीर की आवाज पर राज्यसभा में इस बारे में राय देंगे।
बोर्ड प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा इस विधेयक की ऐसी खामियों की अनदेखी कर रही है, जो तलाक के मसायल को और उलझा देंगी। हम पुरजोर अल्फाज में भाजपा के रवैये की निंदा करते हैं। नोमानी ने कहा कि मौजूदा शक्ल में तीन तलाक रोधी विधेयक से मुस्लिम औरतों की तकलीफ बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी। यह विधेयक भारत के संविधान के साथ-साथ उच्चतम न्यायालय के 22 अगस्त 2017 के फैसले के भी विरूद्ध है।
मालूम हो कि लोकसभा में पारित होने के बाद आज राज्यसभा में पेश किए गये तीन तलाक रोधी विधेयक को प्रवर समिति के पास भेजे जाने को लेकर भाजपा और विपक्ष के बीच नोकझोंक हुई।
Next Story
Share it
Top