Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तीन तलाक बिल: राज्यसभा में इन दो पार्टियों के पास है सबसे ज्यादा सीटें, जानें पूरा समीकरण

राज्यसभा के बाद कांग्रेस के पास भाजपा के बराबर संख्या है। वहीं अन्य छोटे दलों का समर्थन मिला तो जिनकी संख्या करीब 72 होगी।

तीन तलाक बिल: राज्यसभा में इन दो पार्टियों के पास है सबसे ज्यादा सीटें, जानें पूरा समीकरण

मुस्लिम महिलाओं को सुरक्षा देने वाला तीन तलाक बिल मंगलवार को राज्यसभा में पेश होगा। जहां इस बिल को लेकर सभी राजनीति दल चर्चा कर पारित कर सकते हैं।

लेकिन 28 दिसंबर को लोकसभा में जब विधेयक पर चर्चा हुई थी, तब कांग्रेस, माकपा, अन्नाद्रमुक, द्रमुक, बीजद, राजद, सपा समेत कई दलों ने इसे संसदीय समिति को भेजने की मांग जोरदार तरीके से उठाई थी।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक क्या है, जानें इस्लाम में तलाक का तरीका

वहीं अब राज्यसभा में भी इन दलों का रुख यही रहने की संभावना है। कई छोटे दल भी चाहते हैं कि तीन तलाक बिल को संसदीय समिति में इस कानून को भेजा जाए।

ये हैं राजनीतिक दलों की समीकरण

तृणमूल ने लोकसभा में विधेयक पर तटस्थ रुख अपनाया था। राज्यसभा में उसके 12 सांसद हैं। वो राज्यसभा में इसको लेकर अपना वहीं रूख बनाए रखेगी। वहीं सपा, बीजद, एनसीपी समेत अन्य विपक्षी दल भी इस मामले में कांग्रेस का तृणमूल समर्थन कर सकते हैं।

कांग्रेस की रणनीति

कांग्रेस उच्च सदन में विधेयक पर ज्यादा विचार विमर्श के लिए इसे संसदीय समिति के पास भेजने की मांग दोहरा सकती है। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस सहित विपक्ष दल एकजुट होकर मोदी सरकार पर संशोधन के लिए दबाव बनाने और उसे संसदीय समिति के पास भेजने की मांग कर सकते हैं।

राज्यसभा में ये है सीटों का समीकरण

कांग्रेस - 57

भाजपा - 57

सपा - 18

अन्नाद्रमुक -13

तृणमूल - 12

बीजद - 8

वामदल - 8

तेदेपा - 6

राकांपा - 5

द्रमुक - 4

बसपा - 4

राजद - 3

कांग्रेस और भाजपा दोनों की संख्या बराबर है। लेकिन कांग्रेस को अन्य छोटे दलों का समर्थन मिल सकता है जिनकी संख्या करीब 72 है। वहीं भाजपा के पास अपने अलावा सहयोगी दलों के सिर्फ 20 सांसदों का समर्थन है।

वहीं बीते दिन तीन तलाक के खिलाफ लड़नेवाली इशरत जहां भाजपा में शामिल हो गई हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद तीन तलाक पर प्रतिबंध लग चुका है।

Share it
Top