Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ट्रेड यूनियन हड़ताल: 20 करोड़ कर्मचारी एकजुट, आज भी दिखाई देगा बंद का असर

ट्रेड यूनियनों की हड़ताल से देश के कुछ हिस्सों में बैंकों का कामकाज प्रभावित रहा। सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों के विरोध में दस केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने आठ और नौ जनवरी को दो दिन की हड़ताल का आह्वान किया है।

ट्रेड यूनियन हड़ताल: 20 करोड़ कर्मचारी एकजुट, आज भी दिखाई देगा बंद का असर

ट्रेड यूनियनों की हड़ताल से देश के कुछ हिस्सों में बैंकों का कामकाज प्रभावित रहा। सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों के विरोध में दस केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने आठ और नौ जनवरी को दो दिन की हड़ताल का आह्वान किया है। बैंक कर्मचारियों के एक वर्ग ने हड़ताल का समर्थन किया था।

आल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन तथा बैंक एम्पलाइज फेडरेशन आफ इंडिया समेत करीब 20 करोड़ कर्मचारियों ने हड़ताल का समर्थन किया है। हड़ताल से उन बैंकों का परिचालन प्रभावित हुआ है जहां इन दोनों यूनियनों का ज्यादा प्रभाव है।

हालांकि, भारतीय स्टेट बैंक और निजी क्षेत्र के बैंकों में कामकाज पर असर नहीं पड़ा, क्योंकि बैंकिंग क्षेत्र की सात अन्य यूनियनें हड़ताल में भाग नहीं ले रही हैं।

सार्वजनिक क्षेत्र के कई बैंक पहले ही अपने ग्राहकों को सूचित कर चुके हैं कि हड़ताल की स्थिति में सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। चूंकि इन दो यूनियनों के कर्मचारी हड़ताल पर थे, इस वजह से बैंकों की कई शाखाओं में काउंटर सेवाएं मसलन जमा और निकासी, चेक समाशोधन आदि कामकाज प्रभावित हुआ।

इससे पहले 26 दिसंबर को नौ बैंक यूनियनों ने विजया बैंक और देना बैंक के बैंक आफ बड़ौदा में विलय के खिलाफ एक दिन की हड़ताल की थी। वहीं 21 दिसंबर को आल इंडिया बैंक आफिसर्स कनफेडरेशन (एआईबीओसी) ने हड़ताल की थी।

बैंकों के विलय का विरोध

एआईबीईए के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने कहा कि यूनियनें सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय का विरोध कर रही हैं। इससे कर्मचारियों की नौकरियां जाएंगी और रोजगार सृजन भी रुकेगा।

दो दिवसीय हड़ताल

सार्वजनिक क्षेत्र के कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को अग्रिम में दी है कि हड़ताल से सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। ट्रेड यूनियनों ने मंगलवार और बुधवार को दो दिन की हड़ताल का आह्वान सरकार द्वारा कर्मचारियों के लिए अपनाई जा रही कथित रूप से दमनकारी नीतियों के खिलाफ किया है।

Share it
Top