Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Road Rage Case : पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को 30 साल बाद मिली बड़ी राहत, कोर्ट ने लगाया सिर्फ जुर्माना

पूर्व क्रिकेटर और पंजाब में कांग्रेस मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ गैर इरादतन हत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने सिर्फ जुर्माना लगाया है।

Road Rage Case : पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को 30 साल बाद मिली बड़ी राहत, कोर्ट ने लगाया सिर्फ जुर्माना

पूर्व क्रिकेटर और पंजाब में कांग्रेस मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ गैर इरादतन हत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने सिर्फ जुर्माना लगाया है।

एएनआई के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को धारा 323 के तहत दोषी मनाया है और धारा 304 ((II) के तहत बरी कर दिया है। जिसके बाद उन पर सिर्फ जुर्माना लगाया है। इसके अलावा उनके साथ को सभी आरोपों से बरी कर दिया है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट उनके खिलाफ गैर इरादतन हत्या मामले में फैसला सुनाएगी। इस मामले में हाई कोर्ट ने उन्हें तीन साल की सजा दी थी। अगर सुप्रीम कोर्ट इस सजा को बरकरार रखता है।

ये भी पढ़ेः मुंबई हमले पर नवाज शरीफ का बयान भ्रामक और निंदनीय, पाकिस्तान के पीएम ने दी सफाई

जानकारी के लिए बता दें कि गैर इरादतन हत्या मामले में पटियाला कोर्ट से नवजोत सिंह सिद्धू को दोषी करार दिया था। जिसके बाद उन्होंने 3 साल की सजा सुनाई गई थी। इसके खिलाफ नवजोत ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

बता दें कि बीती 12 अप्रैल से सुप्रीम कोर्ट में 1988 के रोडरेज केस की लगातार सुनवाई हो रही है। बीती 18 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। जिसका मंगलवार को फैसला सुनाया जाएगा।

जानें क्या है मामला

नवजोत सिंह सिद्धू और उनके दोस्त रुपिंदर सिंह संधू ने साल 1988 में 30 साल पहले गुरनाम सिंह नाम के शख्स की पिटाई की थी। बता दें कि ये घटना पंजाब के पटियाला है।

बता दें कि सड़क पर हुई तू तू मैं मैं के बीच 50 साल के गुरनाम सिंह को उनकी कार से खींच कर निकाला और पिटाई का आरोप लगा। जिसके बाद गुरनाम सिंह की अस्पताल में मौत हो गई। इस मामले में नवजोत के खिलाफ केस दर्ज हुआ।

Next Story
Top