Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आज से लागू हुए इनकम टैक्स के ये 8 नियम, जानें आपकी जेब पर क्या होगा असर

इस बार बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इनकम टैक्स स्लैब्स तो नहीं बदले, लेकिन कई अन्य बदलाव जरूर किए। शेयरों और शेयर आधारित म्यूचुअल फंड्स से कमाई पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स लगाने से लेकर वरिष्ठ नागरिकों को विभिन्न मदों में राहत देने तक, जेटली ने कई अहम घोषणाएं कीं।

आज से लागू हुए इनकम टैक्स के ये 8 नियम, जानें आपकी जेब पर क्या होगा असर

इस बार बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इनकम टैक्स स्लैब्स तो नहीं बदले, लेकिन कई अन्य बदलाव जरूर किए। शेयरों और शेयर आधारित म्यूचुअल फंड्स से कमाई पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स लगाने से लेकर वरिष्ठ नागरिकों को विभिन्न मदों में राहत देने तक, जेटली ने कई अहम घोषणाएं कीं। बजट 2018 के ज्यादातर प्रस्ताव 1 अप्रैल से लागू हो जाएंगे।

इसे भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल पर मोदी सरकार की बढ़ीं मुश्किलें, 4 साल में कीमतों ने तोड़े रिकॉर्ड

स्टैंडर्ड डिडक्शन की वापसी

बजट 2018 में वेतनभोगियों और पेंशनभोगियों को 40 हजार रुपये स्टैंडर्ड डिडक्शन का लाभ दिया गया है। हालांकि 19,200 रुपये के ट्रांसपोर्ट अलाउंस और 15,000 रुपये के मेडिकल रीइंबर्समेंट की सुविधा वापस ले ली गई है। यह सुविधा आज से लागू हो गई है।

सेस में बढ़ोतरी

वित्त मंत्री ने इंडिविजुअल टैक्सपेयर्स के इनकम टैक्स पर सेस बढ़ाकर 4% कर दिया। यानी, अब किसी व्यक्ति पर जितना टैक्स बनेगा, उसका 4% उसे स्वास्थ्य और शिक्षा उपकर (हेल्थ ऐंड एजुकेशन सेस) के रूप में देना होगा, जो पहले 3% था। गौरतलब है कि सेस की कुल राशि केंद्र सरकार के पास ही रहती है, जबकि टैक्स से जुटाई गई रकम में राज्यों की भी हिस्सेदारी होती है।

इसे भी पढ़ेंः April Fools Day: पंजाब में अकाली दल लोगों को बांट रहा है मोबाइल और नोट, ये है वजह

एलटीसीजी टैक्स फिर से लागू

1 अप्रैल 2018 से कम-से-कम 1 साल की होल्डिंग वाले शेयरों या इक्विटी म्यूचुअल फंड्स से हुई 1 लाख रुपये से ज्यादा की कमाई पर 10% का लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स लागू हो जाएगा। हालांकि, इन्हें 31 जनवरी 2018 तक हुए मुनाफे टैक्स मुक्त रहेंगे। यानी, 1 फरवरी के बाद से शेयरों या इक्विटी म्यूचुअल फंड में आई बढ़त में से 1 लाख रुपये घटाकर ही टैक्स देने होंगे।

Next Story
Top