Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तम्बाकू सेवन आर्थिक विकास के लिए खतरा, तम्बाकू खाने वाले इलाज पर करते हैं खर्च

तम्बाकू से दूरी नहीं बनाई गई तो युवा पीढ़ी इसकी चपेट में आ जाने के आर्थिक विकास को एक बड़ा खतरा पैदा हो सकता है।

तम्बाकू सेवन आर्थिक विकास के लिए खतरा, तम्बाकू खाने वाले इलाज पर करते हैं खर्च

जबलपुर. तम्बाकू का सेवन अर्थव्यवस्था पर एक करारी चोट है, यदि समय रहते तम्बाकू से दूरी नहीं बनाई गई तो एक युवा पीढ़ी इसकी चपेट में आ जाने के आर्थिक विकास को एक बड़ा खतरा पैदा हो सकता है, इसलिए तम्बाकू का सेवन किसी भी प्रकार से हो उसे त्याग देना चाहिए, उक्ताशय के विचार क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के नगर स्थित कार्यालय द्वारा अमझर में आयोजित एक कार्यक्रम में क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी श्रीमती वर्षा शुक्ल पाठक ने व्यक्त किये।

वेतन न मिलने से पुजारियों ने की हड़ताल, कहा- सेलरी मिलने के बाद होगी मंदिरों में पूजा

विश्व तम्बाकू दिवस के उपलक्ष्य में तम्बाकू से हाने वाली हानि पर हुई परिचर्चा के दौरान श्रीमती वर्षा ने बताया कि युवाओं के साथ छोटे-छोटे बच्चों का तम्बाकू सेवन चिकित्सा जगत में आश्चर्य का विषय है, ग्रामीण क्षेत्रो में में मातायें, काम पर जाने के एवज में अपने नन्हें मुन्नों को गुटखा पाउच के लिए पैसा उपलब्ध कराती है, उनकी अनुपस्थिति में बच्चे गुटखा सेवन की लत का शिकार बन रहे हैं।
परिचर्चा के दौरान उपस्थित ग्रामीणजनों को यह जानकारी दी गई कि तम्बाकू खाने से होने वाले कैंसर के मरीज बढ़ जाने से दवा पर खर्च होने वाली राशि का प्रतिशत बहुत ज्यादा बढ़ गया है एवं बिमारी एवं शारीरिक क्षति होने की स्थिति में कार्य दिवस घटने से उत्पादन बढ़ गया है एंव बिमारी एवं शारीरिक क्षति होने से कार्य दिवस घटने से उत्पादन में कमी आती है व कार्य करने की क्षमता प्रभावित होने में आउटपुट भी प्रभावित होता है, अत: उक्त कार्यक्रम में उपस्थितजनों से तंम्बाकू /गुटखा सेवन छोड़ने की अपील भी की गई एवं शपथ दिलाई गई। इस अवसर पर युवाओं ने स्वेच्छा से तंम्बाकू/गुटखा सेवन को त्वरित त्यागने की प्रतिबद्धता दिखाई।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top