Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मायावती की रैली में मची भगदड़, 3 की मौत, कई घायल

मायावती ने मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने का ऐलान किया है।

मायावती की रैली में मची भगदड़, 3 की मौत, कई घायल
लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती की रैली में भगदड़ मचने से तीन महिलाओं की दबकर मौत हो गई, जबकि 22 अन्य घायल हो गए. रैली का आयोजन कांशीराम स्मारक स्थल पर किया गया था। पुलिस ने बताया कि सीढ़ियों पर बने दो द्वारों में से एक से लोग नीचे आ रहे थे और संतुलन बिगड़ने से एक दूसरे के ऊपर गिर पड़े. बसपा के एक प्रवक्ता ने बताया कि बिजली का तार कटने की अफवाह के चलते भगदड़ मची। घायलों को स्थानीय अस्पताल ले जाया गया है। पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष राम अचल राजभर ने हालांकि कहा कि महिलाओं की मौत गर्मी और उमस की वजह से हुई।
मुआवजे की घोषणा
आपको बता दें, बसपा संस्थापक कांशी राम की दसवीं पुण्यतिथि पर बड़ी संख्या में बसपा कार्यकर्ता और लोग एकत्र हुए थे। वर्ष 2002 में लखनऊ में बसपा की एक रैली के बाद चारबाग रेलवे स्टेशन में पार्टी के कम से कम 12 कार्यकर्ता मारे गए और 22 घायल हो गए थे। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये देने की घोषणा की है। मायावती ने भी 5 लाख के मुआवजे की घोषणा की है. मायावती ने रैली के दौरान सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर पीएम मोदी और केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। मायावती ने कहा कि डंका ऐसे पिट रहे हैं मानो ओसामा जैसी अमेरीकी कार्रवाई की हो।
मोदी पर साधा निशाना
बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि सर्जिकल हमला सही था, लेकिन ये देरी से लिया गया फैसला है, इसलिए लोगो में अंदर-अंदर चर्चा है कि इनका ये फैसला चुनाव को देखते हुए लिया गया है। ये फैसला पठानकोट हमले के बाद लिया जाना चाहिए था। आतंकियों के कैंपों पर हमला एक शुद्ध रूप से सैन्य गतिविधि है और सेना ऐसी कार्रवाई कर अपनी जिम्मेवारी निभाती है। दुनिया में कई जगह ऐसा होता है, लेकिन विदेशों में कोई सरकार ऐसा डंका नहीं पीटती ना ही उसका श्रेय लेने के लिए जमीन आसमान एक करती है, जैसा की मोदी सरकार ऐसा कर रही है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top