Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीबीएसई पेपर लीक मामले में एक अधिकारी निलंबित, तीन व्यक्ति गिरफ्तार

सीबीएसई पेपर लीक को लेकर देश भर में फैले रोष के बीच मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने आज बोर्ड के एक अधिकारी को निलंबित कर दिया और एक जांच शुरू की।

सीबीएसई पेपर लीक मामले में एक अधिकारी निलंबित, तीन व्यक्ति गिरफ्तार

सीबीएसई पेपर लीक को लेकर देश भर में फैले रोष के बीच मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने आज बोर्ड के एक अधिकारी को निलंबित कर दिया और एक जांच शुरू की।

वहीं, दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र के पेपर लीक में कथित संलिप्तता को लेकर एक निजी स्कूल के दो शिक्षकों सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।
इस बीच, कांग्रेस ने सरकार पर दबाव बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मामले पर बोलने की मांग की। वहीं, प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आयी कि दो स्कूली शिक्षकों ने पैसे के लिए नहीं, बल्कि मित्रता के चलते कोचिंग सेंटर के एक शिक्षक को 12वीं परीक्षा का पेपर लीक कर दिया। पुलिस ने बताया कि बवाना स्थित मदर खजानी कान्वेंट स्कूल के शिक्षकों रिषभ (29) और रोहित (26) के अलावा वहां के एक निजी कोचिंग सेंटर के शिक्षक तौकीर को गिरफ्तार कर लिया गया है।
संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) आलोक कुमार ने बताया कि शिक्षकों को निर्धारित समय से 35 मिनट पहले सुबह करीब नौ बजकर 10 मिनट पर पेपर कथित रूप से मुहैया कराने के लिए स्कूल भी जांच के घेरे में है। इससे दोनों आरोपियों रोहित और रिषभ को पेपर की तस्वीर खींचने और उसे तौकीर को भेजने के लिए पर्याप्त समय मिल गया। तौकीर ने बाद में पेपर छात्रों के बीच फैला दिया। जांच में इस बात का खुलासा हुआ कि तीनों लोग पिछले चार..पांच वर्षों से मित्र थे।
एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने 10 व्हाट्सऐप नम्बरों के आधार पर तौकीर पर ध्यान केंद्रित किया। इन नम्बरों का इस्तेमाल लीक पेपर को फैलाने के लिए किया गया था। पुलिस ने बताया कि व्हाट्सऐप के जरिये फैलाए गए पेपर में एक लोकेशन कोड था जिसका उस निजी स्कूल को आवंटित कोड से मिलान हो गया, जहां से पेपर लीक हुआ था। पुलिस ने बताया कि एक छात्र जिसे पेपर मिला था, उसका पता लगाया गया और उसने पुलिस को तौकीर तक पहुंचाया जिसे कल हिरासत में ले लिया गया।
पुलिस ने बताया कि तौकीर ने अपने सहयोगियों की जानकारी साझा की, जिसके बाद तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया। तीनों लोग दो दिन की पुलिस हिरासत में हैं। इस दौरान उनसे पैसे के लेनदेन और इस बारे में भी पूछताछ की जाएगी कि क्या उन्होंने अन्य पेपर भी लीक किये हैं। पुलिस ने बताया कि मामले के संबंध में स्कूल के प्रचार्य और पांच शिक्षकों से भी पूछताछ की गई है। लेकिन उन्हें अभी क्लीन चिट नहीं दी गई है। स्कूल शिक्षा सचिव अनिल स्वरूप ने ट्वीट कर कहा कि सीबीएसई अधिकारी के. एस राणा को पेपर लीक मामले में परीक्षा केंद्र की निगरानी में ढिलाई बरतने के चलते निलंबित कर दिया गया है।
उन्होंने कहा, ‘‘मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडे़कर द्वारा दोषियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई के निर्देश पर बोर्ड ने के. एस राणा द्वारा परीक्षा केंद्र (0859) की निगरानी में ढिलाई पाई और उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। एक औपचारिक जांच भी शुरू कर दी गई है।'

इस मामले को लेकर गिरफ्तारियां जारी रहने के बीच कांग्रेस ने मुद्दे पर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की चुप्पी पर सवाल उठाया और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को लीक के मुद्दे पर उठ रहे सवालों का जवाब देना चाहिए। कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा, ‘‘यह गंभीर मामला है। (वित्तमंत्री)अरुण जेटली चुप है, (कानून मंत्री) रविशंकर प्रसाद भी चुप हैं.....(सूचना एवं प्रसारण मंत्री) स्मृति ईरानी भी कुछ नहीं कह रही हैं। ऐसे में मोदी जी जवाब दें और युवाओं को समाधान प्रदान करें। '
उन्होंने कहा कि सरकार पूर्णकालिक राजनीति और अंशकालिक शासन में लगी है।
Next Story
Top