Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

एनसीए का खुलासा, भारतीय नागरिकों के सामने अंग्रेजों की गुलामी का बढ़ा खतरा

एनसीए की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार कुल संख्या में से 25 नागरिक घरेलू दासता के शिकार हुए, 90 श्रम शोषण के शिकार हुए, 18 यौन शोषण के शिकार हुए वहीं सात लोग ''अज्ञात शोषण'' की श्रेणी में आते हैं।

एनसीए का खुलासा, भारतीय नागरिकों के सामने अंग्रेजों की गुलामी का बढ़ा खतरा

ब्रिटेन सरकार के आधिकारिक आंकड़ों में खुलासा किया गया है कि ब्रिटेन में भारतीय नागरिकों के आधुनिक दौर की दासता के चंगुल में फंसने का खतरा बढ़ा है।

पिछले वर्ष यह संख्या 140 थी वहीं 2016 में यह संख्या1 00 थी। नेशनल रेफरल मेकैनिज्म (एनआरएम) ने वर्ष 2017 के आंकडे़ जारी किए हैं। यह संस्था आधुनिक दासता तथा मानव तस्करी के संभावित पीड़ितों का लेखा-जोखा तैयार करती है।

नेशनल क्राइम एजेंसी (एनसीए) की ओर से कल जारी आंकड़ों के अनुसार कुल संख्या में से 25 नागरिक घरेलू दासता के शिकार हुए, 90 श्रम शोषण के शिकार हुए, 18 यौन शोषण के शिकार हुए वहीं सात लोग 'अज्ञात शोषण' की श्रेणी में आते हैं।

इसे भी पढ़ें- अमेरिका ने दिया पाकिस्तान को बड़ा झटका, न्यूक्लियर वाली 7 कंपनियों को किया बैन

भारत 10 सर्वाधिकअसुरक्षित देशों की सूची में आता है। इस सूची में ब्रिटेन819 पीडितों के साथ पहले नंबर पर हैं इसके बाद अल्बानिया (777) और वियतनाम (739) आते हैं।

एनसीए के निदेशक विल केर ने कहा कि हमारा आकलन है कि यहां जो बढोतरी हम देख रहे हैं वह जागरूकता बढने तथा आधुनिक दासता के मामले ज्यादा दर्ज होने के कारण है।

Next Story
Top