Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विपक्ष को एकजुट करने की कवायद में दिल्ली पहुंची ममता, राहुल से मिलने से किया परहेज

2019 के आम चुनावों से पहले विपक्षी दलों की महागठबंधन की तैयारी एक बार फिर से तेज हो गई है। विपक्षी दलों द्वारा महागठबंधन को लेकर हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

विपक्ष को एकजुट करने की कवायद में दिल्ली पहुंची ममता, राहुल से मिलने से किया परहेज

2019 के आम चुनावों से पहले विपक्षी दलों की महागठबंधन की तैयारी एक बार फिर से तेज हो गई है। विपक्षी दलों द्वारा महागठबंधन को लेकर हर संभव प्रयास किया जा रहा है। बता दें कि पहले चंद्रशेखर राव और सोनिया गांधी द्वारा यह पहल की गई थी, लेकिन अब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी विपक्ष को एकजुट करने की कवायद शुरू कर दी है।

इसे भी पढ़े- कर्नाटक: 'लिंगायत कार्ड' की काट ढूंढने अमित शाह पहुंचे सिद्धगंगा मठ, संतो से की चर्चा

खबर है कि ममता बनर्जी अपने चार दिवसीय दौरे के तहत दिल्ली पहुंची हैं। खबर है कि अपने चार दिवसीय दौरे के बीच ममता बनर्जी कई पार्टी प्रमुखों व प्रतिनिधियों से मुलाकात कर सकती हैं। सूत्रों की मानें तो वह राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार की ओर से बुलाई गई विपक्षी नेताओं की बैठक में भी शामिल होंगी।

ममता बनर्जी दिल्ली में जनता दल (यू) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल समेत शिवसेना और टीडीपी के कई वरिष्ठ नेताओं से भेंट करेंगी।
खबर है कि विपक्ष के गठबंधन को एकजुट करने दिल्ली पहुंची ममता अपनी पुरानी सहयोगी पार्टी कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी से नहीं मिलेंगी। हालांकि, कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने मीडिया को दिए अपने बयान में कहा है कि कांग्रेस पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने ममता को उनसे भेंट करने का निमंत्रण भेजा था, जिसे ममता बनर्जी ने स्वीकार कर लिया है।
राजनीतिक विशेषज्ञों की माने तो यह कहा जा रहा है कि ममता ने अन्य विपक्षी दलों के साथ 2019 के आम चुनाव में एकजुट होकर चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू कर दी हैं, जिसके चलते उन्होंने विपक्षी पार्टियों को साधना शुरू कर दिया है।
गौरतलब है कि बीजेपी के खिलाफ विपक्ष को एकजुट लाने की कवायद में ममता ने तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी मुलाकात की थी।
Next Story
Top