Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राइट टू प्राइवेसी: अब खा सकते हैं बीफ, बना सकते हैं समलैंगिक संबंध!

टेलिफोन टेपिंग और इंटरनेट हैकिंग दोनों ही एक व्यक्ति की निजता से जुड़े हैं।

राइट टू प्राइवेसी: अब खा सकते हैं बीफ, बना सकते हैं समलैंगिक संबंध!

सुप्रीम कोर्ट ने आज निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार करार दिया है। केंद्र सरकार का कहना था कि जहां सब कुछ डिजिटल हो गया है वहां निजता का अधिकार मौलिक अधिकार कैसे माना जा सकता है लेकिन आज उच्चतम न्यायालय ने इसे मौलिक अधिकार कहा है।

इसे भी पढ़ें: राइट टू प्राइवेसी: सुप्रीम कोर्ट के फैसले से 134 करोड़ लोगों पर पड़ा ये सीधा असर

निजता के अधिकार के मौलिक अधिकार बताए जानें के बाद बहुत से सवाल उठ रहे हैं क्योंकि इसका असर बहुत से सिविल अधिकारों पर पड़ने वाला है जिसमें समलैंगिकता, बीफ कानून, गर्भपात जैसी चीजें शामिल हैं।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि निजता के इस अधिकार को मौलिक अधिकार करार दिए जानें के बाद कुछ अन्य कानूनों पर क्या असर पड़ा है।

Next Story
Top