Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सुंजवान आर्मी कैंप: सेना के कैंप पर आतंकी हमले में दो जवान शहीद, जानें पूरा मामला

ऑपरेशन में सेना के दो जवान शहीद हुए हैं। वहीं इस हमले में 6 अन्य लोग घायल भी हुए साथ ही पूरे इलाके में अलर्ट जारी किया है।

सुंजवान आर्मी कैंप: सेना के कैंप पर आतंकी हमले में दो जवान शहीद, जानें पूरा मामला

सुंजवान आर्मी कैंप में शनिवार तड़के 4-5 आतंकवादी ग्रेनेड फेंकते हुए और भारी गोलीबारी करते हुए परिसर में घुस आए। सेना ने हथियारबंद आतंकियों को चारों ओर से घेर लिया है।

आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में सैनिकों के साथ अब पैरा कमांडोज भी शामिल हो गए हैं। ये आतंकवादी जेसीओ क्वॉर्टर में भी घुसने में कामयाब हो गए थे। भारतीय जवान फाइनल ऑपरेशन के लिए आतंकवादियों की तलाश के लिए हर कमरे की छानबीन कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ेंः बोले महेश गिरि, मुगल बादशाह औरंगजेब ‘आतंकवादी' था

इस हमले में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का हाथ बताया जा रहा है मगर फिलहाल किसी ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है। हमले की जवाबी कार्रवाई के दौरान एक आतंकी को मार गिराया गया है जबकि अन्य को घेरकर रखा गया है। माना जा रहा है कि आतंकी कैंप के भीतर रिहायशी इलाके में भारी जानमाल के नुकसान का मंसूबा बनाकर आए थे।

19 फ्लेट कराए खाली

इस संबंध में सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि कैंप में मौजूद 26 फ्लैट्स में से 19 को खाली करा लिया गया है और अब यहां किसी भी प्रकार का बंधक संकट नहीं है। आर्मी कैंप के आधे किमी के दायरे में आने वाले सभी शैक्षणिक संस्थानों को दिन भर के लिए बंद कर दिया गया है।

दो जवान शहीद, 6 अन्य घायल

ऑपरेशन में सेना के दो जवान शहीद हुए हैं। वहीं इस हमले में 6 अन्य लोग घायल भी हुए हैं। इससे पहले एक जेसीओ की बेटी के भी घायल होने की खबर आई थी। इससे पूर्व आतंकी सुंजवान कैंप के एक फैमिली क्वार्टर में घुसे थे जिसके बाद सेना ने कैंप के सभी आवासीय फ्लैट्स को खाली करा लिया है।

पैरा कमांडोज एयरलिफ्ट

सुंजवान कैंप में हमले के फौरन बाद उधमपुर से आईएएफ के पैरा कमांडोज को जम्मू एयरलिफ्ट किया गया है। खबर है कि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर स्थित सरसावा बेस से भी पैरा कमांडो रवाना किए जा रहे हैं।

अफजल गुरु की बरसी रही 9 को

बताया गया कि खुफिया रिपोर्टों में आतंकी हमले को लेकर आगाह भी किया गया था। इस बात के संकेत मिले थे कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू की पांचवीं बरसी पर हमले की योजना बना रहे हैं। गौरतलब है कि अफजल गुरू को 9 फरवरी 2013 को तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई थी।

रक्षा व गृहमंत्री को दी जानकारी

इस हमले को लेकर आर्मी चीफ बिपिन रावत ने रक्षा मंत्री को जानकारी दी है। केंद्र की इस हमले पर पूरी नजर है। राज्य के डीजीपी ने केंद्रीय गृहमंत्री को हालात की जानकारी दी है। इस बीच, जम्मू-कश्मीर विधानसभा के अध्यक्ष कविंद्र गुप्ता ने आर्मी कैंप के मुख्यद्वार तक का दौरा किया है।

2006 में भी किया था हमला

ज्ञात हो कि साल 2006 में भी इसी आर्मी कैंप पर आत्मघाती हमला किया गया था, जिसमें 12 जवान शहीद हो गए थे और दो फिदायीन आतंकवादी मारे गए थे।

Next Story
Top