Breaking News
Top

पड़ोस में आतंकी ढांचा लगातार ले रहा है भारत के धैर्य की परीक्षाः सीतारमण

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 12 2018 10:36PM IST
पड़ोस में आतंकी ढांचा लगातार ले रहा है भारत के धैर्य की परीक्षाः सीतारमण

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने पाकिस्तान के सीमा पार आतंकवाद की तरफ साफ इशारा करते हुए कहा कि भारत के ठीक पड़ोस में आतंकी ढांचे की मौजूदगी और आतंकियों को मिल रही सरकार की मदद से लगातार भारत के धैर्य की परीक्षा हो रही है एवं भारत इससे निपटने में काफी संयम दिखा रहा है। 

रक्षा मंत्री ने यहां ‘इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटजिक रिसर्च' को संबोधित करते हुए कहा कि आतंकी समूहों के वित्त पोषण एवं हथियारों की आपूर्ति को रोकने के लिए पुख्ता कोशिश की और ‘‘विदेशी आतंकियों' की भर्ती एवं उन्हें सक्रिय करने की प्रक्रिया को अवरूद्ध करने की जरूरत है। सीतारमण भारत-फ्रांस के सामरिक संबंधों को और बढ़ावा देने के मकसद से तीन दिन के दौरे पर गुरुवार को यहां पहुंची थीं। 
 
भारत के रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी की गयी एक विज्ञप्ति के अनुसार उन्होंने भारत के ठीक पड़ोस में आतंकी ढांचे की मौजूदगी और उसे सरकार से लगातार मिल रही मदद का खासतौर पर जिक्र करते हुए कहा कि वे लगातार भारत के धैर्य की परीक्षा ले रहे हैं। 
 
सीतारमण ने कहा कि मौजूदा अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा परिवेश को तेज बदलाव एवं अनिश्चितता के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो लगातार अस्थिरता एवं हिंसा की समस्याओं से गंभीर चुनौती का सामना कर रहा है। 
 
उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवाद, जिसे हम भारत में और साथ ही अब अफगानिस्तान में भी सीमा पार आतंकवाद के नाम से जानते हैं, का लगातार बना हुआ खतरा मुख्य सुरक्षा चुनौती है।' रक्षा मंत्री ने साथ ही भारत-फ्रांस के रक्षा संबंधों की बात करते हुए दो विश्वयुद्धों में लड़ते हुए फ्रांस की जमीं पर शहीद होने वाले 9,300 भारतीय सैनिकों के बलिदान का उल्लेख किया।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
terrorist structure in neighborhood is constantly taking the examination of indias patience says nirmala sitharaman

-Tags:#Nirmala Sitharaman#Terrorism#Institute of Strategic Research#Ministry of Defense

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo