Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सुषमा की पाक को दो टूक हिदायत, आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ संभव नहीं

सुषमा ने कहा कि हमने नवाज शरीफ से कहा था कि पाकिस्तान केवल एक फार्मूला अपनाए- आतंकवाद छोड़े और बातचीत को साथ आए।

सुषमा की पाक को दो टूक हिदायत, आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ संभव नहीं

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को दो टूक हिदायत दे दी कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकती। कई मंचों से पाकिस्तान से बातचीत चलती रही भले ही औपचारिक चैनल के मार्फत बातचीत न हो, जिसके चलते लंबे समय से कयास इस बात का लगाया जा रहा था कि क्या भारत सरकार ने अपनी पहले की तय पॉलिसी में कोई परिवर्तन लाया है?

विदेश मंत्री ने साफ कर दिया, बिल्कुल भी नहीं। पत्रकारों से बातचीत करते हुए सुषमा स्वराज चार साल के कामकाज का लेखा-जोखा रखते हुए सवालों के जवाब में कहा कि पाकिस्तान को ये बात समझ लेना चाहिए कि आतंकवाद को प्रश्रय देने की अपनी आदत छोड़कर वे बातचीत के टेबल पर आ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- पीएम ने महिला ने पूछा- 'उज्ज्वला योजना से कुछ फायदा हुआ?', महिला ने दिया ये जवाब

उन्होंन कहा कि हमने संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच से पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के चार सूत्री फार्मूले को नकारते हुए कहा था कि पाकिस्तान केवल एक फार्मूला अपनाए- आतंकवाद छोड़े और बातचीत को साथ आए।

विदेश मंत्री ने कहा कि ये कैसे हो सकता है कि सीमा पर हमारे जवानों का जनाजा उठ रहा हो तो बातचीत की आवाज अच्छी नहीं लगती!

उन्होंने जोर देकर कहा कि दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों क बीच आतंकवादी हरकतों पर बातचीत होती रहती है। सुषमा स्वराज ने गिलगिट बलतिस्तान ऑर्डर 2018 पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पाकिस्तान इतिहास को तोड़ने-मरोड़ने के लिए जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें- पीएम मोदी का स्वच्छता अभियान, भाजपा कार्यकर्ताओं ने इंदिरा और राजीव की मूर्तियों की सफाई की

उन्होंने कहा, पाकिस्तान हमें इतिहास और भूगोल पढाने की कोशिश करता है तो मैं यही कहती हूं कि कानून को ताक पर रखकर राजकाज चलाने वाला देश देखो हमें नसीहतें दे रहा है!

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान कैबिनेट ने 21 मई को गिलगिट बलतिस्तान को एक नए प्रांत के रूप में मान्यता देने के लिए विधानसभा से विधेयक पारित किया है।

अमेरिका से एच-1बी वीजा पर बात

भारत में अमेरिकी एच-1बी वीजा पर आ रही परेशानियों पर बहुत बस छिड़ी हुई है। अमेरिका की ट्रंप सरकार ने स्थानीय लोगों को नौकरी पर रखने को ज्यादा प्रश्रय देते हुए भारत से जाने वाले प्रोफेशनल्स के लिए एच-1बी वीजा में कटौती कर भारी मुश्किल पैदा कर दी है।

विदेश मंत्री ने प9कारों से बातचीत में आश्वस्त किया कि ट्रंप सरकार से इस संबंध में लगातार बातचीत चल रही है। उन्होंने उम्मीद जताई की जल्द ही इसके सकारात्मक परिणाम सामने आने की उम्मीद है।

Next Story
Top