Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

शहाबुद्दीन की रिहाई पर उठेे सवाल, तेजस्वी को आया गुस्सा

बीजेपी नेताओं को बेल मिलता है तो क्या भाजपा नेता ही जाकर दिलवाते हैं

शहाबुद्दीन की रिहाई पर उठेे सवाल, तेजस्वी को आया गुस्सा
पटना. भागलपुर में जेल से रिहा होते ही शहाबुद्दीन ने सीएम नीतीश कुमार को लेकर पूछे गये प्रश्न के जवाब में कहा कि नीतीश परिस्थितियों के सीएम हैं। फिर क्या था, बिहार में राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गयी है। पार्टी नेताओं के बयान धड़ल्ले से मीडिया में सुर्खियां बनने लगे हैं। इसी क्रम में बिहार के उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि शहाबुद्दीन की रिहाई न्यायपालिका का काम है। तेजस्वी यादव ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा इस मसले को जबरन तूल दे रही है।
तेजस्वी ने भाजपा नेता सुशील मोदी पर हमला करते हुए कहा कि बीजेपी नेताओं को बेल मिलता है तो क्या भाजपा नेता ही जाकर दिलवाते हैं। तेजस्वी यादव शहाबुद्दीन की रिहायी के बाद उठ रहे सवालों पर भड़के हुए हैं। तेजस्वी ने कहा कि अमित शाह को भी कई मामलों में कोर्ट से बेल मिला है और वह रिहा हुए हैं तो क्या उनकी पार्टी यह काम करवा रही थी। तेजस्वी ने कहा कि न्यायालय बिना किसी इंटरफेयरेंस के काम करती है। तेजस्वी ने कहा कि बीजेपी के नेता और सुशील मोदी जैसे लोग कोर्ट के फैसले पर बोलकर न्यायालय की अवमानना कर रहे हैं।
BJP प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने कहा कि शहाबुद्दीन के जेल से बाहर आने पर सरकार पर बरसते हुए कहा कि सूबे में शराब पीने वालों को जेल में डाला जा रहा है, जबकि खून पीने वालों को बाहर लाया जा रहा है। शहाबुद्दीन को निकलवाने के आरोपों में बिहार के डेप्युटी CM तेजस्वी यादव ने कहा कि यह अदालत का फैसला है, सरकार का इससे कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि इस फैसले पर बरसने वाले लोग हाई कोर्ट की अवमानना कर रहे हैं।
1990 में पहली बार विधायक बने शहाबुद्दीन
49 वर्षीय शहाबुद्दीन पहली बार 1990 में निर्दलीय विधायक बने थे। फिर 1996 से 2009 तक लालू की पार्टी RJD से सांसद रहे। शहाबुद्दीन के जेल जाने के बाद उनकी पत्नी हिना ने दो बार चुनाव लड़ा लेकिन दोनों बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top