Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुंबई और गोवा के बीच चलेगी ''तेजस'', मेट्रो की तरह खुलेंगे दरवाजे

मुंबई से गोवा के बीच चलने वाली इस ट्रेन में चाय और कॉफी की ब्रैंडिंग मशीनों तथा एलसीडी स्क्रीन की सुविधा होगी।

मुंबई और गोवा के बीच चलेगी

मुंबई और गोवा के बीच ट्रेन में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए एक बड़ी खबर है। यात्रियों की सुविधा के लिए 'तेजस' नाम की एक नई आधुनिक ट्रेन शुरू की जा रही है।

जिसमें बढ़िया पर्दों के अलावा अच्छी वेश-भूषा में शैफ, चाय और कॉफी की ब्रैंडिंग मशीनों तथा एलसीडी स्क्रीन की सुविधा होगी। इस ट्रेन में ऑटोमेटिक दरवाजे होंगे।

ये भी पढ़ें- अब पूरा हो सकेगा घर का सपना!

रेलवे जून में गोवा-मुंबई के बीच नई प्रीमियर ट्रेन सेवा शुरू करेगा, जिसका नाम तेजस एक्सप्रेस होगा। इस ट्रेन में एग्जीक्यूटिव क्लास और चेयर की सुविधा होगी। तेजस के डिब्बे 22 नई विशेषताओं के सुसज्जित होंगे। जिसमें आग और धूम्रपान को पकड़ने और बुझाने की व्यवस्था भी शामिल है।

मेट्रो की तरह होंगे ऑटोमेटिक दरवाजे
20 डिब्बे वाली तेजस एक्सप्रेस के ऑटोमेटिक दरवाजे होंगे और सभी कोचों के लिए बाहर जाने का रास्ते भी सुरक्षित होंगे, जो भारतीय रेलवे के लिए अपने आप में पहला फीचर होगा।
मौजूदा ऑटोमेटिक दरवाजे केवल मैट्रो ट्रेन में ही लगे हुए हैं। डिब्बों के बीच गैंगवेस गलियारे साइड्स की तरफ बंद नहीं होंगे। मुंबई-गोवा के बीच ये ट्रेन शुरू करने के बाद दिल्ली-चंडीगढ़ रुट पर भी चलाए जाने की संभावना है जैसा कि बजट में आश्वासन दिया गया है।
ये सुविधाएं भी मिलेंगी
रेलवे मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि तेजस एक नई प्रीमियर श्रेणी की ट्रेन है। जिसमें चाय और कॉफी की ब्रैंडिंग मशीन के अलावा मैगजीन्स, स्नैक टेबल्स की भी सुविधा होगी।
अधिकारी ने कहा, बायो-वैक्यूम टॉयलेट्स में वाटर लेवल इंडीकेटर्स भी लगे होंगे, साथ में हाथ सुखाने वाली मशीन भी होगी। इसमें वाई-फाई की सुविधा भी मिलेगी।

ट्रेन का भीतरी रंग बाहरी रंग से मेल खाएगा, ताकि यात्रियों को विश्व स्तरीय की श्रेणी की ट्रेन में यात्रा का अनुभव हो सके। एलसीडी स्क्रीन मनोरंजन मकसद के लिए होगी, इनका इस्तेमाल यात्रियों संबंधी सूचना और सुरक्षा निर्देशों के लिए भी किया जाएगा।
कैटरिंग सेवा राजधानी और शताब्दी ट्रेनों की तरह ही तेजस में भी होगी। अधिकारी ने कहा इसका मकसद अंतर शहरीय यात्रा में यात्रियों को आराम पहुंचाना है।
Next Story
Top