Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जहां बचपन में मोदी ने बेची थी चाय, वहां बनेगा पर्यटन स्थल

महेश शर्मा ने कहा, ''वडनगर को विश्व पर्यटन के नक्शे पर लाना है।''

जहां बचपन में मोदी ने बेची थी चाय, वहां बनेगा पर्यटन स्थल

केंद्र सरकार ने गुजरात के वडनगर में जिस चाय की दुकान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने बचपन में चाय बेचा करते थे उसके सौन्दर्यीकरण और उसे एक पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने का फैसला किया है।

बता दें कि पीएम मोदी अपने बचपन में गुजरात के वडनगर में रेलवे स्टेशन प्लेटफॉर्म पर चाय की एक दुकान पर चाय बेचा करते थे।

केंद्र सरकार गुजरात के मेहसाणा जिले में मोदी की जन्मभूमि वडनगर को सारी दुनिया से रूबरू कराने और विश्व मानचित्र पर दर्ज कारने हेतु इस चाय की इस दुकान को पर्यटन केंद्र में बदलने की योजना बना रही है।

इसे भी पढ़ें: मोदी कैबिनेट के इन सूरमाओं ने किया GST का सपना साकार

केंद्र सरकार की इस योजना को साकार रूप देने के लिए केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा की अध्यक्षता में संस्कृति और पर्यटन मंत्रालय व भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारियों ने वडनगर का दौरा किया था।

दौरे के बाद अधिकारी इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि इस जगह का सुन्दरीकरण कर आधुनिक स्वरूप देते हुए इसके मूल सौंदर्य को बने रहने दिया जाएगा।

महेश शर्मा ने कहा, 'हमारे प्रधानमंत्री की जन्मस्थली होने के साथ ही वडनगर एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक केंद्र है, जहां प्रसिद्ध शर्मिष्ठा झील और एक बावड़ी है। एएसआई को हाल ही में वहां खुदाई के दौरान एक बौद्ध मठ के अवशेष मिले थे। उत्खनन कार्य अब भी चल रहा है।'

इसे भी पढ़ें: जीएसटी काउंसिल की बैठक में किसानों के लिए हुआ ये बड़ा फैसला

उन्होंने कहा, 'वडनगर रेलवे स्टेशन में एक छोटी सी चाय की दुकान है, जहां से संभवत: प्रधानमंत्री ने अपने जीवन की यात्रा शुरू की थी। हम चाय की उस दुकान को भी पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित करना चाहते हैं। हम टी स्टॉल को आधुनिक स्वरूप देते हुए इसके मूल सौंदर्य को भी संरक्षित रखेंगे। हमारा उद्देश्य वडनगर को विश्व पर्यटन के नक्शे पर लाना है।'

अहमदाबाद मंडल के मंडलीय रेल प्रबंधक दिनेश कुमारकुमार ने कहा, 'वडनगर रेलवे स्टेशन का विकास वडनगर, मोधेरा और पाटन को पर्यटन स्थलों के तौर पर विकसित करने की 100 करोड़ रुपये की परियोजना का एक हिस्सा है। फिलहाल पर्यटन मंत्रालय ने रेलवे स्टेशन के विकास के लिए राज्य पर्यटन विभाग को आठ करोड़ रुपये दे दिये हैं।'

Next Story
Top