Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में लजीज व्यंजन के साथ 10 विपक्षी दलों का सियासी जायका

सोनिया गांधी की इफ्तार पार्टी में अहमद पटेल और मुकुल वासनिक वरिष्ठ नेताओं में सभी को व्यक्तिगत रूप से अटेंड कर रहे थे वहीं टीम-राहुल से तेजी से उभर रहे नदीम जावेद भी उतने ही एक्टिव दिखे।

राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में लजीज व्यंजन के साथ 10 विपक्षी दलों का सियासी जायका

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी भले ही पंच सितारा होटल में आयोजित की गई हो मगर समूचा एआईसीसी का सिस्टम इस तरह से मेजबानी कर रहा था जैसे घर में कोई उत्सव का माहौल हो।

सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव रहे वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और मुकुल वासनिक जहां वरिष्ठ नेताओं में सभी को व्यक्तिगत रूप से अटेंड कर रहे थे वहीं टीम-राहुल से तेजी से उभर रहे नदीम जावेद भी उतने ही एक्टिव दिखे।

होटल ताज के दरबार हॉल में यूपीए का ऐसा दरबार सजा कि इफ्तार शाम 7.21 को नमाज के अजान के बाद शुरू हुई तो फिर हर लजीज व्यंजन के साथ खालिस राजनीतिक अंदाज ही नजर आया। शाकाहारी, मांसाहारी भोजन के साथ ताजे फलों की खास थाली का खास इंतजाम था।

एआईसीसी डा. अजॉय कुमार सरीखे बहुत से हेल्थ-कांसेस नेताओं की दिलचस्पी फलों की तरफ ही ज्यादा दिखी। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा देवी सिंह पाटील, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के साथ टेबल पर राहुल गांधी बैठे। उनके साथ ही ममता बनर्जी के प्रतिनिधि बनकर शामिल हो रहे वरिष्ठ तृणमूल नेता दिनेश त्रिवेदी भी बैठे।

बसपा के सतीश मिश्रा, राजद से मनोज झा, जनता दल सेकुलर से दानिश अली, डीएमके से कानीमोझी सभी के साथ खड़े होकर राहुल गांधी ने पत्रकारों से संक्षिप्त बातचीत में कहा कि रमजान के पाक महीने में इफ्तार पार्टी आयोजित करने का सौभाग्य मुझे पहली बार मिला है।

उन्होंने साफ किया कि ये पार्टी कांग्रेस पार्टी ने नहीं आयोजित किया बल्कि ये पूरी तरह से यह उनका व्यक्तिगत आयोजन है। हालांकि इससे पहले 2015 में सोनिया गांधी ने इफ्तार पार्टी का आयोजन करने की परंपरा डाली थी।

कांग्रेस जब सरकार में थी तो प्रधानमंत्री मनमेाहन सिंह इफ्तार पार्टी का आयोजन किया करते थे। अब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ऐसे किसी भी धार्मिक पार्टी के आयोजन से मना कर दिया है इससे पहले प्रणब मुखर्जी ने बतौर राष्ट्रपति इफ्तार का आयोजन राष्ट्रपति भवन में किया था।

ऐसा रहा नजारा

इफ्तार का आयोजन चूंकि एक तरह से यूपीए के शक्ति प्रदर्शन का मौका सा दिखने लगा तो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पी चिदंबरम, एके एंटनी, सीपीएम नेता सीताराम येचुरी, जदयू से विक्षुब्ध चल रहे शरद यादव, राकांपा नेता डीपी त्रिपाठी, झामुमो नेता हेमंत सोरेन सहित यूपीए का पूरा कुनबा दिखा।

नहीं दिखा तो समाजवादी पार्टी के कोई नेता राहुल गांधी के सभास्थल पर रहने तक शिरकत करने नहीं आया था।

नकवी वार

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल गांधी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष की इफ्तार राजनीतिक लाभ के लिए है।

उन्होंने यह भी कहा कि इफ्तार के आयोजन को लेकर वह कांग्रेस के साथ किसी तरह की स्पर्धा नहीं कर रहे हैं। नकवी ने कहा, राहुल गांधी राजनीतिक लाभ के लिए इफ्तार का आयोजन कर रहे हैं। बहरहाल, मैं जरूररमंद लोगों के लिए इफ्तार दे रहा हूं. वैसे, हम उनके साथ किसी तरह की स्पर्धा नहीं कर रहे हैं।

Next Story
Top