Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तमिलनाडु में सुनहरे पर्दे से राजनीति में दस्तक देने का जारी है सिलसिला

तमिलनाडु में ऐसा बहुत बार हुआ है और एक बार फिर एक्शन रूपहले पर्दे से आगे बढ़कर राज्य की राजनीति के विशाल मंच पर पहुंच गया है।

तमिलनाडु में सुनहरे पर्दे से राजनीति में दस्तक देने का जारी है सिलसिला
X

लाइट, कैमरा और एक्शन सिनेमा की दुनिया के प्रचलित शब्द हैं, लेकिन एक्शन का दायरा अकसर बदल जाता है। तमिलनाडु में ऐसा बहुत बार हुआ है और एक बार फिर एक्शन रूपहले पर्दे से आगे बढ़कर राज्य की राजनीति के विशाल मंच पर पहुंच गया है।

दक्षिण भारतीय और हिंदी फिल्मों में अपने सशक्त अभिनय से मिसाल बन जाने वाले कमल हासन ने अब राजनीति में अपने हाथ आजमाने का ऐलान करके अभिनय से सियासत की दुनिया में आने की इस रवायत को आगे बढ़ाया है।

कमल हासन ने किया पार्टी का ऐलान

कमल ने कल अपनी पार्टी मक्कल नीति मय्यम के गठन की घोषणा कर औपचारिक रूप से राजनीति में उतरने का ऐलान किया। चेन्नई फिल्म उद्योग ने राज्य को मुख्यमंत्री भी दिए हैं।

इसकी शुरूआत हुई अपने समय के मशहूर अभिनेता एमजी रामचंद्रन से जिन्होंने सिल्वर स्क्रीन पर तीन दशक तक बादशाहत कायम रखने के बाद मुख्यमंत्री की कुर्सी हासिल की।

वह 1977 से 1987 में निधन तक 10 साल इस पद पर बने रहे। मशहूर अभिनेत्री जे जयललिता ने एमजीआर की विरासत को संभाला और वह भी मुख्यमंत्री बनीं।

बड़े लोगों के बीच पहचाने जाते हैं कमल हासन

हासन देश के एक बड़े भाग के लोगों के बीच पहचाने जाते हैं। उन्होंने तमिल के अलावा तेलगू, कन्नड़, मलयालम और हिंदी फिल्मों में भी काम किया है। फिल्म जगत से तमिलनाडु की राजनीति में प्रवेश करने वाले पहली शख्सियत थे द्रमुक संस्थापक सीएन अन्नादुरई।

वह पटकथा लेखक थे जिन्होंने मशहूर फिल्म ‘वेलाइकारी' की पटकथा लिखी थी। उन्होंने 1967 में राज्य में पहली गैर कांग्रेसी सरकार का नेतृत्व किया। पूर्व मुख्यमंत्री एम करूणानिधि का नाम भी फिल्म जगत में काफी मशहूर था जिन्होंने अनेक फिल्मों की स्क्रिप्ट और संवाद लिखे थे।

अभिनेता एसएस राजेन्द्रन ने राजनीति में दी दखल

गुजरे जमाने के अभिनेता एसएस राजेन्द्रन का भी राजनीति में अच्छा दखल रहा। उन्होंने आम चुनाव जीता था और लोकसभा तथा राज्यसभा के लिए भी चुने गए थे। इनके अलावा अनेक ऐसे अभिनेता भी हैं जो सिल्वर स्क्रीन से राजनीति में आए लेकिन यहां उनका जादू चल नहीं सका।

रामचंद्रन के समकालीन अभिनेता गणेशन बेहद मशहूर अभिनेता थे। वे कांग्रेस और डीएमके में शामिल रहे। बाद में उन्होंने अपनी पार्टी बना ली थी। हालांकि वे 1989 में चुनाव हार गए थे। ऐसा ही एक नाम है अभिनेता विजयकांत का।

विजयकांत की जमानत तक जब्त हो गई

उन्होंने 2005 में डीएमडीके का गठन किया और बाद में 2011 चुनाव में ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करने के लिए अन्नाद्रमुक से जुड़ गए। अर्से से अच्छा प्रदर्शन करती आ रही पार्टी 2016 में अपना खाता ही नहीं खोल सकी और विजयकांत की जमानत तक जब्त हो गई।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story