Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सावधान! स्वाइन फ्लू से 3 की मौत, 92 लोग चपेट में

तापमान और हवा में उच्च नमी की मात्रा में उतार-चढ़ाव के कारण H1N1 वायरस फैलता है।

सावधान! स्वाइन फ्लू से 3 की मौत, 92 लोग चपेट में
X

देश में स्वास्थ मंत्रालय ने स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए भरपूर इंतजाम तो किए हैं लेकिन जिले में स्वाइन फ्लू का एक और मामला सामने आया है। जिसके बाद स्वास्थय विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया।

बता दे ये मामला गाजियाबाद के लोहियानगर डी-ब्लॉग का है। यहां पर रहने वाले युवक अभिषेक सिंघल में स्वाइन फ्लू के लक्षण मिले के कारण युवक को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जिसके बाद पीड़ित का सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजा गया है। अस्पताल के आईसीयू प्रभारी डॉ. अरविंद डोगरा का कहना है कि मरीज की सेहत में सुधार हो रहा है।

बताते चले मुंबई में पिछले एक सप्ताह में 92 लोग स्वाइन फ्लू का शिकार हुए और उनमें से 3 लोगों की मौत हो चुकी है। अगर सरकारी रिकॉर्ड देखा जाए तो एक जनवरी से अब तक 285 लोग स्वाइन फ्लू के शिकार हुए हैं जिनमें 10 लोगों की मौत हो गई है। बता दे इस साल अब तक 210 लोगों की स्वाइन फ्लू के कारण मौत हो चुकी है।

लिहाजा आपका ये जानना जरूरी है कि स्वाइन फ्लू क्या है, और ये कैसे फैलता है। ये जानकारी तब और भी अहम हो जाती है जब सर्दी में बारिश से नमी बढ़ जाती है। दरअसल, ऐसे मौसम में ही तेजी से फैलता है स्वाइन फ्लू।

तापमान और हवा में उच्च नमी की मात्रा में उतार-चढ़ाव के कारण H1N1 वायरस फैलता है। इसलिए लोगों को प्रिवेंटिव उपाय करना चाहिए।

स्टेट सर्विलांस ऑफिसर डॉक्टर प्रदीप अवटे ने बताया कि,"राज्य में स्वाइन फ्लू से मरने वालों का आंकड़ा पहुंचकर 210 पहुंच गया है। अब तक 8 लाख लोग स्वाइन फ्लू की जांच करवा चुके हैं।

मुंबई के अलावा भी कई राज्यों में भी स्वाइन फ्लू के मामले पिछले साल की तुलना में इस साल और बड़ गए हैं। स्टेट हेल्थ सर्विलांस विभाग से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक राज्य में एक जनवरी से अब तक 1315 मामले आ चुके हैं, जबकि 210 लोग इस बीमारी के चलते अपनी जान गंवा चुके हैं।

महाराष्ट्र में हुई मौतों में से एक चौथाई मौतें केवल पुणे में हुई हैं। अगर आंकड़े देखे जाए तो पुणे में सबसे ज्यादा 58 और नासिक में 30, औरंगाबाद में 20, अहमदनगर में 19, नागपुर में 17 लोग स्वाइन फ्लू के कारण जान गवा चुके हैं।

इनके अलावा अमरावती, अकोला, बुल्धाना, कोल्हापुर, सोलापुर, सतारा, ठाणे, मुंबई, बीड़, लातूर सहित कई दूसरे जिलों में भी स्वाइन फ्लू से मौतें हो चुकी हैं।

स्वास्थ्य विभाग की कार्यकारी अधिकारी डॉ. पद्मजा केसकर ने कहा कि गले में दिक्कत, सांस लेने में परेशानी, डायरिया और उलटी जैसी समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से मिलें। ऐसे लक्षण स्वाइन फ्लू के भी हो सकते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story