Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक से जंग हुई तो 10 करोड़ भारतीय जान देने को रहें तैयार: स्वामी

स्वामी ने सरकार से आग्रह किया कि पाकिस्तान के परमाणु ताकत को महत्व ना दें और पड़ोसी देश पर हमला करें।

पाक से जंग हुई तो 10 करोड़ भारतीय जान देने को रहें तैयार: स्वामी
नई दिल्ली. हमेशा से सुर्खियों में बने रहने वाले भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को एक सनसनीखेज़ बयान दिया। स्वामी ने भारत सरकार से आग्रह किया कि पाकिस्तान के परमाणु ताकत को अनुचित महत्व ना दें और पड़ोसी देश पर हमला करें। स्वामी ने कहा कि चाहे इसकी वजह से परमाणु युद्ध ही क्यों ना शुरू हो जाए।

न्यूक्लियर बम पाकिस्तान को पूरी तरह मिटा सकते हैं
एक टीवी न्यूज़ के प्रोग्राम के प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वामी ने कहा, 'परमाणु युध्द की स्थिति में पाकिस्तान के परमाणु बम हमले से ज्यादा से ज्यादा 10 करोड़ लोगों की जान जा सकती है, हम फिर भी 110 करोड़ की आबादी के साथ बचेंगे, लेकिन हमारे न्यूक्लियर बम पाकिस्तान को पूरी तरह मिटा सकते हैं।’
10 करोड़ लोगों को अपनी जान देने के लिए तैयार रहना चाहिए
कॉन्फ्रेंस में स्वामी से यह पूछे जाने पर कि क्या वो 10 करोड़ लोगों को मारे जाने के लिए तैयार रहने के लिए कह रहे हैं तो स्वामी ने कहा, 'मुझे लगता है परमाणु युध्द की संभावना बहुत कम है। लेकिन अगर ऐसा हुआ तो 10 करोड़ लोगों को अपनी जान देने के लिए तैयार रहना चाहिए।’
संधियां सिर्फ दोस्तों के बीच होतीं हैं
सिंधु जल समझौते को रद्द करने के सवाल पर स्वामी ने कहा कि 'संधियां सिर्फ दोस्तों के बीच होतीं हैं। हमने पहले कभी ऐसा कोई कदम नहीं उठाया। लेकिन इस बार निर्णायक युद्ध होना चाहिए। पाकिस्तान की आदत है कि वो समझौता करता है फिर तोड़ देता है। इसलिए नेहरू जो गलती करके गए हैं उसे सुधारने का वक्त है। अगर युद्ध की स्थिति आएगी तो सिंधु जल समझौते को रद्द कर देंगे।'
अपने भड़काऊ बयानों की वजह से चर्चा में
स्वामी अकसर अपने भड़काऊ बयानों की वजह से चर्चा में बने रहते हैं जिसकी वजह से उनके विरोधी उन्हें मूर्ख कहते हैं। इसी वजह से उन्हें इसका ख़मयाज़ा अपनी हार्वर्ड की नौकरी छोड़ कर चुकानी पड़ी थी। उनके द्वारा लिखे गए भारतीय अखबार में मुसलमानों के उपर लेख लिखने पर अमेरिकी विश्वविद्यालय द्वारा अभूतपूर्व क्रोध का सामना करना पड़ा था।
स्वामी ने पत्रकार को वामपंथी बताया
हार्वर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा उन्हें नौकरी से हटाए जाने के प्रश्न पर स्वामी ने पत्रकार को एक वामपंथी बताया और कहा कि उन्हें उस समय भी विद्यार्थियों का समर्थन था।
मस्जिदों और गिरजाघरों में भगवान नहीं रहते
साल 2011 में एक भारतीय अख़बार में अपने लेख में स्वामी ने कहा था कि मस्जिदों और गिरजाघरों में भगवान नहीं रहते हैं और भगवान का वास सिर्फ मंदिरों में होता है। तब हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के 400 विद्यार्थियों ने शिकायत कर के स्वामी को बर्खास्त करने की मांग की थी।
उरी हमले में 18 भारतीय सैनिकों के शहीद होने वाली बात पर प्रतिक्रिया देते हुए स्वामी ने कहा, विशेष बलों ने पहले से ही नियंत्रण रेखा को पार किया था और पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए- मुहम्मद के मुख्यालय के पास पहुंच गए थे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top