Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

स्वच्छ भारत के तहत बनाए गए 29 फीसदी शौचालय लापता

सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च के सर्वे में हुए खुलासे हैरान करने वाले हैं।

स्वच्छ भारत के तहत बनाए गए 29 फीसदी शौचालय लापता
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2014 में 'स्वच्छ भारत अभियान' की शुरुआत की। इस अभियान के दो साल पूरे होने पर एक सर्वे रिपोर्ट जारी किया गया है। सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च के इस सर्वे में हुए खुलासे हैरान करने वाले हैं।

यह सर्वे 7500 गांवों में कराया गया है। सर्वे में पाया गया है कि 'स्वच्छ भारत अभियान' के तहत बनाए गए शौचालयों में 29 फीसदी शौचालय सिर्फ कागजों पर हैं, उनका कहीं निर्माण कराया गया है। इसके अलावा 36 फीसदी शौचालय ऐसे बनाए गए हैं जिनका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। यह सर्वे पिछले साल दिसंबर में पांच राज्यों के दस जिलों में हुआ था।

सर्वे में हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और बिहार जैसे राज्य शामिल थे। सराकर द्वारा लाभार्थियों की सूची प्राप्त कर इन्होंने पाया कि ऐसे कई नाम हैं जो दोबारा लिस्ट में हैं। सर्वे में महाराष्ट्र का सतारा सबसे बेहतर पाया गया तो वहीं बिहार का नालंदा सबसे खराब पाया गया। नालंदा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह जिला है। नालंदा और उदयपुर में सबसे ज्यादा लोग खुल में शौच करते हैं।

लॉजिकल इंडियन की रिपोर्ट रके मुताबिक, 'स्वच्छ भारत अभियान' को लेकर गांवों में जागरूकता की काफी कमी है। सरकार ने प्रत्येक ग्राम पंचायत में स्वच्छता दूत नियुक्त करने का वादा किया था, लेकिन केवल 6 फीसदी लोगों को स्वच्छता दूत के बारे में जानकारी है। केवल 10 फीसदी गांवों में पंचायत स्वच्छता समिति है और केवल 3 फीसदी लोगों ने कहा कि उनके पास इस स्कीम को बताने के लिए सरकारी अधिकारी आए थे।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top