Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तेल टैंकर पर सवार 22 भारतीय लापता, सुषमा ने नाइजीरियाई विदेश मंत्री से की बात

पश्चिम अफ्रीका के जलदस्यु प्रभावित जलक्षेत्र में एक तेल टैंकर अभी भी लापता है जिस पर 22 भारतीय सवार हैं।

तेल टैंकर पर सवार 22 भारतीय लापता, सुषमा ने नाइजीरियाई विदेश मंत्री से की बात
X

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज अपने नाइजीरियाई समकक्ष के साथ बात की और लापता तेल टैंकर का पता लगाने के लिए उनसे मदद मांगी। इस टैंकर पर 22 भारतीय सवार हैं।

नाइजीरियाई विदेश मंत्री जेफ्री ओनयिमा ने सुषमा को टैंकर का पता लगाने के लिए हरसंभव सहायता का आश्वासन दिया।

ये भी पढ़ें- कैंपस के भोजनालय में मांसाहारी भोजन पर कोई प्रतिबंध नहीं : आईआईटी बंबई

पश्चिम अफ्रीका के जलदस्यु प्रभावित जलक्षेत्र में एक तेल टैंकर अभी भी लापता है जिस पर 22 भारतीय सवार हैं। पिछले तीन दिन से उससे कोई संपर्क नहीं हुआ है। यह जानकारी आज नौवहन महानिदेशालय (डीजीएस) के अधिकारियों ने दी।

अधिकारियों ने बताया कि ‘मरीन एक्सप्रेस' के पश्चिम अफ्रीका के गिनी की खाड़ी में बेनिन तट के पास से लापता होने की जानकारी मिली है। सुषमा ने नाइजीरियाई नेता से टेलीफोन पर बात करने के बाद कहा, ‘‘मैंने अभी नाइजीरिया के विदेश मंत्री से लापता पोत के बारे में बात की है।

नाइजीरिया के माननीय विदेश मंत्री ने लापता पोत का पता लगाने के लिए हर संभव सहायता का वादा किया है। हमने एक हेल्पलाइन नम्बर .(+234) 9070343860 जारी किया है।'

डीजीएस के एक अधिकारी ने यहां पीटीआई से कहा, ‘‘पोत पर सभी संचार उपकरणों को बंद कर दिया गया है और पोत अभी भी लापता है।' उन्होंने बताया कि अभी तक फिरौती के लिए कोई संदेश नहीं आया है।

उन्होंने सूचित किया कि नाइजीरिया में भारतीय मिशन नाइजीरियाई नौसेना एवं अन्य एजेंसियों के साथ सम्पर्क में है। वहीं डीजीएस प्रयासों का समन्वय कर रहा है क्योंकि इसमें भारतीय नाविक शामिल हैं। अधिकारी ने बताया कि शहर स्थित कंपनी एंग्लो ईस्टर्न शिपिंग द्वारा पोत पर 22 नाविक नियुक्त किये गए थे।

ये भी पढ़ें- नरौदा गाम दंगा मामला : एसआईटी कोर्ट ने पूर्व आईपीएस अधिकारी को जारी किया नोटिस

अधिकारी ने बताया कि पनामा ध्वजवाहक पोत का स्वामित्व ओशन ट्रांजिट कैरियर, एसए के पास है जो कि एक जापानी कंपनी है। अधिकारी ने बताया कि मालिकों ने भारतीय चालक दल के सदस्यों के परिवारों के लिए एक समर्पित हेल्पलाइन नम्बर जारी किया है। उन्होंने उस क्षेत्र को एक ‘‘मुश्किल' क्षेत्र बताया जहां से पोत गुजर रहा था।

डीजीएस के एक अन्य अधिकारी ने कल कहा था, ‘‘क्षेत्र का जलदस्यु इतिहास रहा है और यह एक संदिग्ध समुद्री डकैती का मामला हो सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story