Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सूरत बम ब्‍लास्‍ट: सुप्रीम कोर्ट ने सभी 11 आरोपियों को किया बरी

टाडा अदालत ने इन लोगों को 10 साल से लेकर 20 साल की अवधि तक की सजा सुनाई थी।

सूरत बम ब्‍लास्‍ट: सुप्रीम कोर्ट ने सभी 11 आरोपियों को किया बरी
नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट ने सूरत में 1993 में हुए बम ब्‍लास्‍ट के 11 अरोपियों को शुक्रवार को बरी कर दिया के टाडा अदालत ने इन लोगों को 10 साल से लेकर 20 साल की अवधि तक की सजा सुनाई थी। धमाकों में एक लड़की की मौत हो गई थी और 31 अन्य घायल हो गए थे। टाडा कोर्ट ने अभियोजन पक्ष की इस दलील को स्वीकार किया था कि धमाके अयोध्या में विवादित ढांचे को गिराए जाने का बदला लेने के लिए किए गए थे। न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने आरोपियों और गुजरात सरकार की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया। आरोपियों ने मामले में टाडा कोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी।
अयोध्या स्थित विवादित ढांचा ढहाए जाने के बाद भड़के सांप्रदायिक दंगों के दौरान 21 जनवरी 1993 को गुजरात के सूरत के वाराचा इलाके के मिनी बाजार स्थित साधना स्कूल के पास ब्लास्ट हुआ था। इसमें एक छात्रा अल्पा पटेल की मौत हो गई थी, जबकि 11 अन्य घायल हुए थे। ब्लास्ट के अगले ही दिन सूरत रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 पर फिर ब्लास्ट हुआ था। गुजरात एक्सप्रेस को टारगेट कर किए गए इस ब्लास्ट में 38 यात्री घायल हुए थे।
नीचे की स्लाइड्स में जानिए, क्‍या है पूरा मामला-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top