Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राफेल पर इन नेताओं ने दी अपनी प्रतिक्रिया, कोई खुश- तो कोई बोला- गलत डिसीजन

राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने आज एक अहम फैसला सुनाया। सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि राफेल डील को लेकर कोई संदेह नहीं है, विमान हमारी जरूरत है। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील पर दाखिल सभी याचिकाओं को खिरज कर दिया है।

राफेल पर इन नेताओं ने दी अपनी प्रतिक्रिया, कोई खुश- तो कोई बोला- गलत डिसीजन
राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने आज एक अहम फैसला सुनाया। सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि राफेल डील को लेकर कोई संदेह नहीं है, विमान हमारी जरूरत है। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील पर दाखिल सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है। जिसके बाद राजनीतिक हलचल भी बढ़ गई है। संसद के शीतकालीन सत्र में इस मुद्दे को लेकर हंगामा भी हुआ। पक्ष विपक्ष दोनों इस फैसले को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहा है।
वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने आज जो फैसला सुनाया है वो पूरी तरह गलत है। हम इतनी जल्दी हार नहीं मानेंगे हम इस फैसले के रिव्यू के लिए याचिका दाखिल करेंगे।
गृहमंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने इस मामले में कहा है कि मामला शुरुआत से ही साफ था। और हम शुरुआत से ही कह रहे हैं कि राफेल डील पूरी तरह से साफ है। ये बस कांग्रेस के द्वारा उड़ाई गई अफवाह है। कांग्रेस ने इसे राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल किया है।
कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने कहा कि राफेल आज भारत की जरूरत है। और हमें अपनी सुरक्षा के लिए हमेशा तैयार रहना होगा। सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं।
केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर (Rajyavardhan Singh Rathore) ने ट्वीट करके इस फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने राफेल मामले पर किसी भी तरह की जांच से इंकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कोई पक्षपात नहीं किया है। सत्यमेव जयते!

भाजपा नेता भूपेंद्र यादव ने ट्विटर पर लिखा कि सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील पर सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है। हम सुप्रीम कोर्ट से संतुष्ट हैं। भारत को कमजोर नहीं किया जा सकता।

केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा (JP Nadda) ने ट्विटर पर लिखा कि चौकीदार को भागीदार बताने वाले नामदार को देश से माफ़ी माँगनी चाहिए। राहुल गांधी हर रैली में राफेल डील के नाम पर रोज़ नए आँकड़े देते थे, कहानियाँ सुनाते थे। सेना तक पर सवाल उठाते थे। अब सामने आएं और विश्व पटल पर देश की छवि धूमिल करने के लिए माफ़ी माँगे।

Share it
Top