Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने के लिए चुनाव आयोग का रूख करें याचिकाकर्ताः सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि चुनाव में ‘बोगस वोटिंग'' पर रोक लगाने के लिए मतदाता पहचान पत्र (वोटर आईडी कार्ड) को ‘आधार'' से जोड़ने के विषय पर विचार करना चुनाव आयोग के दायरे में आता है।

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने के लिए चुनाव आयोग का रूख करें याचिकाकर्ताः सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि चुनाव में ‘बोगस वोटिंग' पर रोक लगाने के लिए मतदाता पहचान पत्र (वोटर आईडी कार्ड) को ‘आधार' से जोड़ने के विषय पर विचार करना चुनाव आयोग के दायरे में आता है।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर तथा न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की सदस्यता वाली पीठ ने इस सिलसिले में एक याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया।
पीठ ने कहा कि याचिकाकर्ता यदि चुनाव आयोग के आदेश से संतुष्ट नहीं हों, तो उनके पास फिर से शीर्ष न्यायालय का रूख करने के विकल्प खुले हुए हैं।
न्यायालय ने कहा, ‘‘इस वक्त हम जनहित याचिका (पीआईएल) पर विचार नहीं कर सकते। इसके बजाय हम याचिकाकर्ता को चुनाव आयोग का रूख करने को कहेंगे, जिसके बाद चुनाव आयोग इस विषय में एक तर्कसंगत आदेश जारी करेगा।'
पीठ ने याचिका का निपटारा करते हुए कहा कि यदि याचिकाकर्ता तब भी संतुष्ट नहीं हों, तो फिर से न्यायालय का रूख करने के लिए उनके पास विकल्प खुले हैं।
गौरतलब है कि अधिवक्ता एवं भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने यह पीआईएल दायर कर चुनाव आयोग को इस बारे में एक निर्देश देने का अनुरोध किया था कि वह ‘आधार' आधारित चुनाव प्रक्रिया लागू करे, ताकि चुनाव में अधिकतम सहभागिता हो और बोगस वोटिंग पर रोक लगे। साथ ही, यह जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 17 - 18 के अनुरूप होगा।
Next Story
Top