Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लव मैरिज पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- खाप अवैध, पुरूष-महिला को विवाह से नहीं रोक सकता कोई समाज-पंचायत

सुप्रीम कोर्ट ने आज अंतर जातिय विवाह के मामले में खाप को अवैध करार देते हुए कहा कि यदि कोई वयस्क पुरूष और महिला विवाह करते हैं, तो कोई खाप, पंचायत या समाज उन पर सवाल नहीं उठा सकता।

लव मैरिज पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- खाप अवैध, पुरूष-महिला को विवाह से नहीं रोक सकता कोई समाज-पंचायत

सुप्रीम कोर्ट ने आज अंतर जातिय विवाह के मामले में खाप पंचायत पर हमला करते हुए कहा कि यदि कोई वयस्क पुरूष और महिला विवाह करते हैं, तो कोई खाप, पंचायत या समाज उन पर सवाल नहीं उठा सकता।

सुप्रीम कोर्ट ने अंतरजातीय विवाह करने वाले वयस्क (बालिग) पुरूष और महिला के खिलाफ खाप पंचायतों या संघों के हर कदम को पूरी तरह से अवैध करार देते हुए कहा कि यदि कोई वयस्क पुरूष और महिला विवाह करते हैं, तो कोई खाप, पंचायत या समाज उन पर सवाल नहीं उठा सकता।

इसे साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार को फटकार लगाई। मंगलवार को चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि कोई खाप, समाज या माता-पिता बालिगों को किसी के साथ प्रेम विवाह करने से रोक नहीं सकता।

सुप्रीम कोर्ट की इस बेंच में जस्टिस मिश्रा के अलावा एएम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ शामिल थे। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि अगर खाप पंचायतों को बैन करने के लिए केंद्र कदम नहीं उठाता, तो फिर कोर्ट इस मामले में कार्रवाई करेगा।

Share it
Top