Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सुप्रीम कोर्ट ने ई-कॉमर्स साइट्स को ऑनलाइन पटाखा बेचने पर लगाई रोक

उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को फ्लिपकार्ट और अमेजन सहित ई-कॉमर्स कंपनियों को देश भर में ऑनलाइन पटाखे बेचने से रोक दिया। केवल ''''हरित पटाखों'''' के निर्माण और बिक्री को अनुमति देते हुए उच्चतम न्यायालय ने कहा कि ई-कॉमर्स कंपनियां अगर ऑनलाइन पटाखे बेचती पाई गईं तो अदालत की अवमानना के लिए उन पर कार्रवाई होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने ई-कॉमर्स साइट्स को ऑनलाइन पटाखा बेचने पर लगाई रोक
X

उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को फ्लिपकार्ट और अमेजन सहित ई-कॉमर्स कंपनियों को देश भर में ऑनलाइन पटाखे बेचने से रोक दिया। केवल 'हरित पटाखों' के निर्माण और बिक्री को अनुमति देते हुए उच्चतम न्यायालय ने कहा कि ई-कॉमर्स कंपनियां अगर ऑनलाइन पटाखे बेचती पाई गईं तो अदालत की अवमानना के लिए उन पर कार्रवाई होगी।

न्यायमूर्ति ए के सिकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने कहा, 'फ्लिपकार्ट और अमेजन सहित कोई भी ई-कॉमर्स वेबसाइट न तो ऑनलाइन ऑर्डर हासिल करेंगे न ही ऑनलाइन बिक्री करेंगे। कोई भी ई-कॉमर्स कंपनी अगर ऑनलाइन पटाखा बेचती पाई गई तो उन पर अदालत की अवमानना के लिए कार्रवाई होगी और उन पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है।'
उच्चतम न्यायालय ने पटाखे छोड़ने से जानवरों पर पड़ने वाले प्रभाव के मुद्दे पर भी गौर किया।
अदालत ने कहा कि इससे तेज ध्वनि प्रदूषण होता है जिसका जानवरों के मस्तिष्क और शरीर पर असर होता है।
पीठ ने अपने फैसले में कहा, ‘‘पटाखों से कभी-कभी जानवरों के सुनने की क्षमता पर अस्थायी या स्थायी असर होता है। साथ ही इस समय कुत्तों पर तनाव का मनोवैज्ञानिक असर दिखता है। पटाखों का असर पक्षियों पर भी पड़ता है।'
उच्चतम न्यायालय ने फैसला दिया कि दिवाली तथा अन्य त्योहारों पर पटाखे रात आठ बजे से रात दस बजे तक ही चलाए जा सकेंगे।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story