Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई सवालों की झड़ी, सरकार ने मांगी 14 दिन की मोहलत

रोहतगी ने कहा कि 31 दिसंबर के बाद सबको उचित अनुपात में पैसा दिया जाएगा।

नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई सवालों की झड़ी, सरकार ने मांगी 14 दिन की मोहलत
X
नई दिल्ली. नोटबंदी के बाद लोगों को हो रही लगातार दिक्कतों के देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को जमकर फटकार लगाई। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान सरकार ने कोर्ट को बताया कि नोटबंदी से होने वाली परेशानी 14 दिन और रहेगी. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा कि जब देश के लोगों को 2 हज़ार नहीं मिल पा रहे तो कुछ लोगों के पास करोड़ों कहां से आ रहे हैं? सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा किसको कितना पैसा देना है क्या इसको लेकर कोई पॉलिसी है..? अगर आप नई करेंसी नहीं दे पा रहे तो कम से कम महत्वपूर्ण जगहों पर चलने दे सकते हैं ? हॉस्पिटल और रेलवे में आखिर पुराने नोट क्यों नहीं चल सकते? कोर्ट ने कहा आपकी अधिसूचना में है कि लोग एक हफ्ते में 24000 रुपये निकाल सकेंगे, लेकिन यह नहीं मिल रहे हैं, जबकि आपकी अधिसूचना अब भी 24000 रुपये देने का वादा कर रही है।
ट्रांज़ैक्शन रोकने का फैसला
सुप्रीम कोर्ट के एक के बाद एक उठ रहे सवालों का जवाब देते हुए केंद्र के वकील अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि बस 14 दिनों की बात है उसके बाद हालात जल्द सामान्य हो जाएंगे। 70 साल की समस्या है उसको खत्म करने में 70 दिन का तो वक़्त लगेगा ही। 31 दिसंबर के बाद सबको उचित अनुपात में पैसा दिया जाएगा। सरकार की ओर से कहा गया कि हम देख रहे हैं कि ये कैसे कॉपरेटिव बैंक सीधे आरबीआइ में पैसे जमा करें। हम इसको लेकर जल्द नोटिफिकेशन जारी करेंगे। हमको शक है कि इसमें काला धन आया था इस वजह से ट्रांज़ैक्शन रोकने का फैसला लिया गया था। नोट पकड़े जाने की बात पर केंद्र सरकार ने जवाब दिया कि इस मामले में अनेक बैंक अधिकारी और मेनैजर शामिल हैं, जिन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब तक चार लाख करोड़ रुपये की नई नकदी बैंकों में जा चुकी है।
डिजिटल ट्रांज़ैक्शन की सुरक्षा का मुद्दा
सुनवाई के दौरान एक वकील ने नोटबंदी के दौरान 96 लोगों की मौत का मुद्दा भी सुप्रीम कोर्ट में उठाया। तो एक वकील ने डिजिटल ट्रांज़ैक्शन की सुरक्षा का मुद्दा कोर्ट में सामने रखा जिसके बाद कोर्ट ने कहा कि सभी पक्षों की दलील सुन ली हैं और सबको ध्यान में रखते हुए कोर्ट अपना अंतरिम आदेश जारी करेगी। नोटबंदी के बाद करेंसी की सप्लाई पर सरकार ने कहा कि 5 लाख करोड़ की करेंसी दोबारा बाज़ार में उतार दी है। 2.5 लाख करोड़ की करेंसी पहले से बाज़ार में है। 17.5 लाख करोड़ में कुल 7.5 लाख करोड़ बाज़ार में हैं।
नोटों की धांधली
नोटबंदी पर इससे पहले सुनवाई में सरकार की ओर से कहा गया था कि केंद्र सरकार इस मामले पर पूरी तरह निगरानी रख रही है। नोटबंदी को लेकर हालात किसी तरह बिगड़े नहीं हैं। यहां तक कि कोई दूधवाला या किसान इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट नहीं आया है। ये सब मामला राजनीति से प्रेरित है। रोहतगी ने पट्रोल पंपों का उदाहरण दिया जहां पुरानों नोटों की धांधली हुई। उन्होंने कहा कि पंपों ने 10, 50 और सौ-सौ के नोट लेने के बाद भी पांच सौ और हजार रुपये के नोट ही जमा किए और ये सब कमीशन लेकर हुआ। इसलिए पुराने नोटों को स्वीकार करने की सीमा और नहीं बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि यह सरकार का बड़ा और साहसिक कदम है कल क्या होगा यह भगवान भी नहीं जानता। लेकिन नोटबंदी से आतंकवाद की कमर टूटी है और कश्मीर में भी हालात सामान्य हो रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story