Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

व्याभिचार के मामले में पुरुष ही दोषी क्यों, महिलाएं क्यों नहीं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट इस मामले में सोचेगा की इस कानून में कैसे सुधार लाया जाए।

व्याभिचार के मामले में पुरुष ही दोषी क्यों, महिलाएं क्यों नहीं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने व्याभिचार पर बने कानून पर सवाल किया है कि व्याभिचार के लिए सिर्फ पुरुषों को ही सजा देने का प्रावधान है महिलाओं को क्यों नहीं। सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि हर अपराधिक कानून में महिला और पुरुष बराबर है लेकिन आईपीसी की धारा-497 में इस सिद्धांत का अभाव है।

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने धारा-497 का परीक्षण करने का निर्णय लेते हुए कहा कि कोई भी कानून महिलाओं को ये संरक्षण नहीं देता कि व्याभिचार के मामले में हमेशा पुरुषों को सजा मिले।
पीठ का कहना है कि यदि पुरुष किसी दूसरे की पत्नी से संबंध बनाता है तो इस मामले में कानून महिला को व्याभिचारी नहीं मानता जबकि पुरुष को 5 साल की सजा हो जाती है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले में सोचेगा की इस कानून में कैसे सुधार लाया जाए।
Next Story
Share it
Top