Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चीनी उत्पादन बढ़कर 2.737 करोड़ टन, 14.27 प्रतिशत बढ़ा उत्पादन

चीनी उद्योग के प्रमुख संगठन इस्मा ने आज कहा कि देश का चीनी उत्पादन वित्त वर्ष 2014-15 में अप्रैल तक 14.27 प्रतिशत बढ़कर दो करोड़ 73.7 लाख टन हो गया।

चीनी उत्पादन बढ़कर 2.737 करोड़ टन, 14.27 प्रतिशत बढ़ा उत्पादन
नई दिल्ली. चीनी उद्योग के प्रमुख संगठन इस्मा ने आज कहा कि देश का चीनी उत्पादन वित्त वर्ष 2014-15 में अप्रैल तक 14.27 प्रतिशत बढ़कर दो करोड़ 73.7 लाख टन हो गया। इसके साथ ही इस्मा ने नकदी संकट से जूझ रही चीनी मिलों पर 21,000 करोड़ रुपए के गन्ना कीमतों के बकाए को चुकाने में मदद करने के लिए सरकार को अधिशेष चीनी को खरीदने की भी मांग की।
भारतीय चीनी मिल संघ ने एक बयान में कहा कि देश के प्रमुख उत्पादक राज्य, महाराष्ट्र में चीनी उत्पादन समीक्षाधीन अवधि में एक करोड़ 3.5 लाख टन के सर्वकालिक उच्च स्तर को छू गया है। इसमें कहा गया है कि वर्ष के अंत तक 35 लाख टन के अधिशेष चीनी के साथ कुल चीनी उत्पादन के चालू विपणन वर्ष में 2.8 करोड़ टन हो जाने की संभावना है।
इस्मा के अध्यक्ष वेल्लयन ने कहा, सरकार को तत्काल कम से कम 30 लाख टन चीनी खरीदनी चाहिए जिससे चीनी उद्योग को करीब 8,000 करोड़ रुपए तत्काल फंड उपलब्ध कराएगा जिसका बदले में किसानों के भुगतान के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है और भारी गिरावट का सामना कर रहे चीनी कीमतों में सुधार करेगा। उन्होंने कहा कि अल्पावधि में चीनी के आयात शुल्क को बढ़ा कर 40 प्रतिशत करने तथा इथेनॉल पर उत्पाद शुल्क को हटाने जैसे हाल के कदम घरेलू मंदा कीमतों को सुधारने में कोई मददगार नहीं रहा है तथा उन्हें 21 हजार करोड़ रुपए के गन्ना के बकायों का भुगतान क्षमता को सुधारने में भी मददगार नहीं है।
हजारों करोड़ का कंपनियों ने नहीं भरा टैक्स, जांच के लिए समिति बनाएंगे जेटली
वेल्लयन ने कहा कि घरेलू और वैश्विक बाजार में चीनी के अधिशेष स्टॉक ने वैश्विक और घरेलू बाजार में दोनों जगह चीनी कीमतों को मंदा किया है। परिणामस्वरूप चीनी मिलों को अपने चीनी के स्टॉक का निपटान करने में मुश्किल पेश आ रही है। चीनी मिलों की नकदी की स्थिति अभी भी सुधरी नहीं है क्योंकि वे केवल 1 लाख 94 हजार टन कच्ची चीनी और 1 लाख 63 हजार टन साफ चीनी का निर्यात करने में सफल हुए हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top