Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रेलवे में पैसेंजर चार्टर होगा लागू, रेलवे बोर्ड के अफसर फील्ड में करेगें काम

दिसंबर से लागू होगा पैसेंजर चार्टर, रेलवे बोर्ड से कम किए जाएंगे अफसर।

रेलवे में पैसेंजर चार्टर होगा लागू, रेलवे बोर्ड के अफसर फील्ड में करेगें काम

देश भर में रेल हादसों को रोकने को लेकर रेलवे मंत्रालय गंभीरता दिखा रहा है आगामी दिसंबर में रेल मंत्रालय पैसेंजर चार्टर शुरू करने जा रहा है पैसेंजर चार्टर शुरू होने पर रेलवे में बहुत सुविधाएं और समस्याएं समय रहते निपट जाएगी।

रेल मंत्री ने कहा कि रेल यात्रियों की सुरक्षा हमारे लिए सबसे पहले है और अब रेल यात्री को यह अधिकार होगा कि वह रेल यात्रा से संबंधित किसी भी उपभोक्ता समस्या का निदान तय समय के अंदर हो।

बता दें कि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस बात की जानकारी रेल भवन में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी गोयल ने यह बात रेल कर्मचारियों के लिए चार्टर जारी करते हुए कही।

इसे भी पढें- अब IRCTC पर नहीं कर सकेंगे टिकट बुक, रेलवे ने की है ये प्लानिंग

उन्होंने कहा कि देश में रेल लाइनों की मरम्मत के लिए और जरूरी रेल को खरीदने के लिए रेलवे ने 12 अक्टूबर को 7 लाख टन का ग्लोबल टेंडर जारी किया है। इस ग्लोबल टेंडर से यह बात पूरी तरीके से साफ है कि भारतीय रेल की जरूरत के मुताबिक रेल पटरी की सप्लाई दुनिया के किसी भी कोने से ली जा सकती है।

रेलवे में प्राइवेट सेक्टर की भागीदारी बढ़ाने के लिए नियमों को और सोफ्ट बनाया जाएगा स्टेशनों के विकास के लिए दिए जाने वाले स्टेशनों की लीज अब 90 साल की बजाय 99 साल तक देने का फैसला किया गया है।

रेलवे के जोनल स्तर के GM को सेफ्टी से संबंधित किसी भी काम को कराने के लिए अब फाइनेंस मिनिस्ट्री की निर्धारित फाइनेंसियल लिमिट के लिए रेलवे बोर्ड की परमिशन नहीं लेनी होगी। डीआरएम को पावर दी गई है कि अगर सेफ्टी से संबंधित कोई भी वैकेंसी है तो वह 62 साल के रेलवे कर्मचारी को दोबारा काम पर रख सकता है।

इसे भी पढें- इंडियन रेलवे ला रहा है ये नया एेप, तत्काल टिकट मिलना होगा बिल्कुल आसान

रेल मंत्री गोयल ने कहा कि मुंबई में हाल ही में हुई भगदड़ के बाद रेल मंत्रालय ने देशभर के सभी स्टेशनों के बारे में चर्चा की है। कई मिटिंग्स के बाद यह तय हुआ है कि मुंबई में 370 एस्केलेटर और देश के बाकी हिस्सों में तकरीबन 3000 एस्केलेटर लगाए जाएंगे। इसके लिए टेंडर निकालने का काम स्थानीय स्तर पर ही कर लिया जाएगा सेफ्टी संबंधित कामों में आनाकानी न हो इसके लिए रेल मंत्रालय ने तमाम अधिकार डिविजनल और जोनल स्तर के अधिकारियों को दे दिए हैं।

रेलवे बोर्ड में नियुक्त अधिकारियों की संख्या में कमी की जाएगी और रेलवे बोर्ड ने ऐसे 90 अफसरों की लिस्ट तैयार की है इन अफसरों को दोबारा फील्ड में भेजा जा रहा है।

Share it
Top