Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने कहा, हमारे परमाणु हथियार हैं न्याय की तलवार

अमेरिका के उत्तर कोरिया के खिलाफ सख्त रवैये को अपनाये रखना खुद को भारी पड़ सकता है।

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने कहा, हमारे परमाणु हथियार हैं न्याय की तलवार

अमेरिका के उत्तर कोरिया के खिलाफ सख्त रवैये को अपनाये रखना खुद को भारी पड़ सकता है। इसको लेकर नोर्थ कोरिया के विदेश मंत्री री योंग हो ने कहा हैं कि देश के परमाणु हथियार न्याय के लिए तलवार साबित हो सकते है। रूस की सरकारी समाचार एजेंसी तास ने उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री री योंग हो को यह कहते हुए उद्धृत (Quoted) किया है कि यूएस के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का सितंबर में संयुक्त राष्ट्र में दिये गया बयान को युद्ध के लिए उसकाने वाला बताया था।

इसे भी पढें: किम जोंग का साइबर अटैक: नार्थ कोरिया के हैकरों ने चुराया अमेरिका का मिलिट्री प्लान

बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप कई बार ये कह चुके है कि अगर उन्हें देश और उनके सहयोगियों की रक्षा करने की आवश्यकता पड़ी तो अमेरिका उत्तर कोरिया को पूरी से तरह तबाह कर देगा। इसके जबाव में रूस के राष्ट्रपति ने ये कहा था कि अमेरिका के इस बयान से उत्तर कोरिया पीछे नहीं हटेगा बल्कि इससे उत्तर कोरिया चिंढ कर कोई खतरनाक कदम ऊठा सकता हैं अमेरिका को इस मुद्दे को शांति के साथ निपटाना चाहिए।

अमेरिका को करेगें दंडित

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार प्रतिरोधक और शक्तिशाली हैं, जिससे उसकी अमेरिका से रक्षा हो सके, साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि उत्तर कोरिया के सामरिक बलों के पास अटूट शक्ति है जो आक्रामक अमेरिका को दंडित किए बिना नहीं छोड़ेंगे और अमेरिका एक दिन दुनिया के सामने अपने आप को खुद अपमानित होता महसूस करेंगा।

अमेरिक को सिखा कर रहेगें सबक

दराअसल उत्तर कोरिया के लोग अमेरिका को सबक सिखाने की सरकार से मांग कर रहे है। कोरिया की जनता में अमेरिका के खिलाफ रोष है और वे अमेरिका को दुनिया से मिटाने की जिद पर उतराऊ हो सकते हैं।

यूएस मिलिट्री के बॉ़म्बर्स ने फ्लाई किया

वहीं मंगलवार की देर रात यूएस मिलिट्री के बॉ़म्बर्स ने नॉर्थ कोरिया के पेनिसुला इलाके के ऊपर फ्लाई किया। अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की, बता दें कि ऐसा यूएस के मिलिट्री प्लेन ने तब किया जब कुछ देर पहले ही प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने मीटिंग की थी। उस मीटिंग में उन्होंने अधिकारियों के साथ इस बात पर चर्चा की थी कि नॉर्थ कोरिया की किसी धमकी से किस तरीके से निपटा जाए।

Next Story
Top