Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इस खास समुदाय के सहारे गुजरात का ''रण'' जीतने की जुगत में कांग्रेस-बीजेपी

गुजरात का विधानसभा चुनाव कांग्रेस और बीजेपी दोनों के लिए काफी अहम हैं।

इस खास समुदाय के सहारे गुजरात का

गुजरात का विधानसभा चुनाव कांग्रेस और बीजेपी दोनों के लिए काफी अहम हैं। इस चुनाव में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी प्रतिष्ठा दांव पर लगा दी है तो वहीं दूसरी तरफ राहुल गांधी गुजरात की सत्ता में वापसी की राह तलाश कर रहें हैं।

दोनों पार्टियां चुनाव मे जीत हासिल करने के लिए हरसंभव कोशिश कर रही हैं। गुजरात में जो भी रिजर्व सीटें हैं उस पर दोनों पार्टियों का दबदबा हैं।

आदिवासी समुदाय को रिझाने की कोशिश-

गुजरात में 15 प्रतिशत आबादी आदिवासियों की हैं। जिस पर किसी भी पार्टी का कोई दबदबा नहीं हैं। इस समुदाय के लिए 26 सीटें रिजर्व हैं। ऐसे में इन सीटों को अपनी झोली में करने के लिए कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियां इस समुदाय के वोटरों को अपनी तरफ मोड़ने की कोशिश कर रही हैं।

यह भी पढ़ेंः गुजरात चुनाव 2017 : दलित नेता जिग्नेश मेवाणी बतौर निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव, कांग्रेस देगी समर्थन

SC-ST सीटों पर बीजेपी मजबूत-

अगर राज्य में इससे पहले हुए चुनावों पर नजर डालें तो बीजेपी का SC-ST पर दावा मजबूत दिखता हैं। लेकिन पिछले कुछ सालों में दलितों के साथ हुई घटनाओं से बीजेपी का वोट कम होने का अनुमान हैं।

ऐसे में बीजेपी इस वर्ग के वोटरों को अपनी तरफ करने के प्रयास में लगी हुई हैं।

कांग्रेस कर रही है प्रयास-

कांग्रेस का बेस वोटर रहे SC-ST पिछले 27 सालों में कांग्रेस से दूर होता गया है। इस बार कांग्रेस इस इस खास समुदाय के लोगों को अपनी तरफ जोड़ने की कोशिश कर रही हैं।

दलित नेता जिग्नेश मेवाणी जब से कांग्रेस में शामिल हुएं हैं तब से कांग्रेस का दावा कुछ मजबूत नजर आ रहा है। आदिवासी समुदाय के वोटों को अपने पक्ष में करने के लिए कांग्रेस ने आदिवासी नेता छोटू वसावा के साथ गठजोड़ किया हैं।

यह भी पढ़ेंः सीएम रूपाणी का कांग्रेस-हार्दिक पर हमला, बोले- गठजोड़ से नहीं पड़ेगा कोई असर

संघ कर रहा है बीजेपी की मदद-

बीते कुछ सालों की तरफ अगर नजर डालें तो कई ऐसे आदिवासी इलाके हैं जहां सरकार नहीं पहुंच पाई है। लेकिन संघ ने इन आदिवासी इलाको कई बेहतर काम किए हैं और सरकार और आदिवासियों के बीच पुल बनने का काम किया है।

आदिवासी समुदाय पर अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए बीजेपी ने 2017 में आदिवासी गौरव यात्रा का आयोजन किया था।

गांव-गांव पहुंच रही है कांग्रेस-

कांग्रेस गांव-गाव जाकर आदिवासियों को यह समझा रही है कि वही एक ऐसी पार्टी है जो उनके समुदाय का भला कर सकती है।

कांग्रेस आदिवासियों से यह बता रही है कि राज्य की बीजेपी सरकार ने सिर्फ उनको ठगने का काम किया है। ऐसे में आप सभी कांग्रेस को इस चुनाव में वोट दे।

यह तो चुनाव परिणाम आने के बाद ही पता चल पाएगा कि इस समुदाय के लोगों ने किसकी बातों पर यकीन किया और किसको वोट किया।

Loading...
Share it
Top