Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

श्रीलंका: लिट्टे संघर्ष के दौरान लापता हुए 11 युवकों के मामले में सेना प्रमुख की गिरफ्तारी के आदेश

श्रीलंका में लिट्टे के साथ क्रूर सैन्य संघर्ष के दौरान तमिल अल्पसंख्यक समेत 11 युवकों के अपहरण और लापता होने के मामले में अदालत ने सेना प्रमुख एडमिरल रवि विजेगुनारत्ने को गिरफ्तार कर इसके समक्ष पेश करने का आदेश दिया है।

श्रीलंका: लिट्टे संघर्ष के दौरान लापता हुए 11 युवकों के मामले में सेना प्रमुख की गिरफ्तारी के आदेश

श्रीलंका में लिट्टे के साथ क्रूर सैन्य संघर्ष के दौरान तमिल अल्पसंख्यक समेत 11 युवकों के अपहरण और लापता होने के मामले में कथित रूप से शामिल रहने के लिए देश की एक अदालत ने सेना प्रमुख एडमिरल रवि विजेगुनारत्ने को गिरफ्तार कर इसके समक्ष पेश करने का आदेश दिया है।

विजेगुनारत्ने पर लापता युवकों के मामले के मुख्य संदिग्ध को सुरक्षा देने और सुरक्षित देश से बाहर भेजने का आरोप है। लिट्टे के खिलाफ सैन्य संघर्ष के दौरान 2008 से 2009 के बीच 11 युवक लापता हो गए थे। लापता लोगों के बारे में समझा जाता है कि उनकी हत्या की जा चुकी है।

इसे भी पढ़ें- Birthright Citizenship: ट्रंप की तीखी टिप्पणी, कहा- मूर्खतापूर्ण नीति का चीन ने बेहद फायदा उठाया

अदालत के एक अधिकारी ने बताया कि कोलंबो मजिस्ट्रेट की अदालत ने पुलिस को आदेश दिया कि नौ नवंबर से पहले सेनाध्यक्ष को गिरफ्तार करें और चेतावनी दी कि अगर वह ऐसा करने में असफल रहते हैं तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लापता लोगों के परिजनों का आरोप है कि इसके पीछे श्रीलंका प्रशासन, मुख्य रूप से इसकी सेना, नौसेना और पुलिस का हाथ है। वर्ष 2008 से 2009 के बीच 11 लोगों का अपहरण कर लिया गया था इसके बाद वह लापता हो गए थे।

इसे भी पढ़ें- 'राम मंदिर' पर 'निजी विधेयक' पेश करेंगे राकेश सिन्हा, जानिए क्या होता है 'निजी विधेयक'

इस मामले में कई नौसेना अधिकारी फिलहाल जमानत पर हैं। पुलिस के अपराध अनुसंधान विभाग ने अलगाववादी लिट्टे संघर्ष के चरम पर होने के दौरान उच्च राजनीतिक नेताओं से संबंध रखने वाले नौसेना के अधिकारियों की ओर से चलाये जा रहे संगठित रंगदारी (जबरन वसूली) रैकेट का भंडाफोड़ किया था।

पूर्व राष्ट्रपति मोहिंदा राजपक्षे द्वारा अंतरराष्ट्रीय दबाव के कारण 2013 में गठित की गयी समिति ने 19 हजार लोगों के लापता होने की रिपोर्ट दी थी। सरकारी आंकड़ों के अनुसार 30 साल तक चले लिट्टे के अलगाववादी संघर्ष के दौरान 20 हजार लोग लापता हुए थे। इस लंबे संघर्ष में एक लाख लोग मारे गए थे।

Next Story
Top