Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हिसाब 2015: अर्थव्यवस्था में दिखा ग्रोथ का दम

भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती से विकास दर को रफ्तार दे रही है।

हिसाब 2015: अर्थव्यवस्था में दिखा ग्रोथ का दम
X
नई दिल्ली. वर्ष 2015 में जब समूची दुनिया की अर्थव्यवस्था कराह रही थी, भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती से विकास दर को रफ्तार दे रही थी। मोदी सरकार को पांच फीसदी विकास दर वाली अर्थव्यवस्था विरासत में मिली थी, लेकिन दो वित्त वर्ष से भी कम समय में सरकार ने अपने सुधारात्मक कदम के दम पर देश की अर्थव्यवस्था को साढ़े सात फीसदी की दर से वृद्धि करने वाली इकॉनोमी बना दी।
चालू वर्ष में जहां यूरोप में फिर ग्रीस संकट उभरा, अमेरिकी अर्थव्यवस्था धीमी रही, ब्रिटेन, फ्रांस व र्जमनी ग्रोथ के लिए जूझते नजर आए, जापानी अर्थव्यवस्था नए निवेश के लिए तरसती रही, चीनी अर्थव्यवस्था का बुलबुला फटा और उसे अपने गिरते निर्यात को थामने के लिए अपनी मुद्रा युआन का अवमूल्यन करना पड़ा, वहीं भारतीय अर्थव्यवस्था ने 7.5 फीसदी की दर से विकास किया। ग्लोबल रेटिंग एजेंसियां-मूडीज, फिच, एसएंडपी और नोमुरा ने भारत की रेटिंग को लेकर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। इस साल जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ताबड़तोड़ विदेश यात्राओं से भारत के हित में कई आर्थिक व निवेश समझौते किए, वहीं घरेलू मोर्चे पर भी कई फैसले किए गए।
रिर्जव बैंक ने दो बार रेपो दरों में कटौती की, सरकार ने एफडीआई नियमों में ढील भी दी और इसकी सीमा भी बढ़ाई। कॉरपोरेट टैक्स के बोझिल नियमों को सरल बनाया। प्रोजेक्टों की सरकारी मंजूरी की प्रक्रिया को आसान बनाई। सब्सिडी बोझ को कम करने की कोशिश की गई, चालू वित्तीय घाटा व राजस्व घाटा को कम करने करने की कोशिश की गई। इतना ही नहीं, मोदी सरकार ने आर्थिक सुधार को इनक्लूसिव सोशल डेवलपमेंट से जोड़ने के लिए भी कई गेम चेंजर कदम उठाए।
12 रुपये प्रीमियम वाली प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और अटल पेंशन योजना गरीबों के लिए बड़ा ऐलान रहीं। ये योजनाएं एक साथ देश की 115 जगहों पर शुरू की गईं। इसके अलावा तीन स्वर्ण मौद्रीकरण योजनाएं, मुद्रा बैंक, डिजीटल इंडिया, ई-लॉकर सर्विस और स्मार्ट सिटी योजना ने आर्थिक सुधार की दिशा में सरकार के बड़े मंसूबों का इजहार किया। आने वाले वर्षों में सरकार के इन कदमों का अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक असर पड़ेगा। हालांकि 2015 में मोदी सरकार जीएसटी बिल और भूमि सुधार बिल पास नहीं करा पाई।
प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना
इस योजना के तहत जनता को सिर्फ 12 रुपये का सलाना प्रीमियम देना है जिसमें मृत्यु पर 2 लाख का दुर्घटना कवर दिया जाएगा। दुर्घटना के दौरान विकलांग होने पर एक लाख का कवर दिया जाएगा। दुर्घटना पर आंखों की रोशनी जाने पर पीड़ित को दो लाख रुपये मिलेंगे। बैंक में बचत खाता अनिवार्य है। उम्र सीमा 18 से 70 साल तक तय की गई।
जीवन ज्योति बीमा योजना
सरकार ने देश की गरीब जनता के लिए जीवन बीमा योजना की शुरूआत की। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति नामक बीमा योजना से देश के 18 से 50 साल की उम्र के नागरिक फायदा ले सकते हैं। जिसके लिए उन्हें सालाना 330 रुपए का प्रीमियम देना होगा। योजना के तहत मृत्यु के बाद दो लाख का बीमा कवर मिलेगा। इस योजना के लिए हर साल नवीनीकरण कराना होगा। कोई शख्स एक से ज्यादा बैंक खातों पर इस योजना का लाभ नहीं उठा सकता।
अटल पेंशन योजना
इस योजना के तहत 60 साल की उम्र के बाद पेंशन का प्रावधान है। 18 से 40 साल की उम्र के नागरिक इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इसके तहत लाभार्थी को 20 साल या उससे ज्यादा योगदान देना होगा। और रिटायरमेंट के बाद आप न्यूनतम 1000, 2000, 3000, 4000 या 5000 रुपये के बीच पेंशन का लाभ उठा सकेंगे। यही नहीं इस स्कीम में मृत्यु के बाद पेंशन की रकम आर्शित के खाते में भी जाएगी।
डिजिटल इंडिया, ई-लॉकर
पीएम नरेंद्र मोदी ने एक जुलाई 2015 को अपने सबसे महत्वाकांक्षी योजना डिजिटल इंडिया को लॉन्च किया। डिजिटल इंडिया कैंपेन में कॉरपोरेट सेक्टर 4.5 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेगा। इससे 18 लाख लोगों को नौकरियां मिलेंगी। इसके साथ पीएम ने ई-लॉकर सर्विस को भी लॉन्च किया। सभी ग्राम पंचायतों को ब्रॉडबैंड से जोड़ा जाएगा।
स्मार्ट सिटी योजना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 जून 2015 को स्मार्ट सिटी समेत तीन बड़ी योजनाओं को लॉन्च किया। मोदी ने पुनरोद्धार एवं शहरी परिवर्तन के लिए अटल मिशन, स्मार्ट सिटी मिशन और सभी के लिए आवास मिशन की शुरूआत की। स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत देशभर में 100 स्मार्ट शहर बसाए जाएंगे, शहर के नामों का ऐलान हो चुका है।
फिर गहराया ग्रीस संकट
विकसित देशों में शुमार ग्रीस (यूनान) पहला देश है जो आईएमएफ का कर्ज चुकाने में असफल रहा। करीब एक करोड़ 10 लाख की आबादी वाला यह देश करीब-करीब दिवालिया हो गया। साल 1999 में यूनान में आए भूकंप से भारी क्षति पहुंची। हजारों की संख्या में मकान क्षतिग्रस्त हुए, जिसे सरकार ने बनवाया। इससे यूनान का खजाना चरमरा गया। इसकी अर्थव्यवस्था संभली भी नहीं थी कि उसने 2004 में ओलंपिक खेलों की मेजबानी की। इसके लिए उसने बड़ी मात्रा में कर्ज लेकर पानी की तरह पैसा बहाया। 2008 में आई आर्थिक मंदी से यूनान प्रभावित हुआ।
चीनी मुद्रा युआन का अवमूल्यन
आर्थिक सुस्ती और गिरते निर्यात की समस्या से जूझ रहे चीन ने अगस्त में अपनी मुद्रा युआन की सख्त नियंत्रण विनिमय दर में दो प्रतिशत अवमूल्यन कर दिया। उसकी मुद्रा में 1994 के बाद किसी एक दिन में आने वाली यह सबसे बड़ी गिरावट है।
गूगल बनी अल्फाबेट इंक
सर्च इंजन गूगल के सह संस्थापक लैरी पेज ने अगस्त माह में अल्फाबेट इंक नाम से एक नई कंपनी बनाई और इसी के तहत अब गूगल की सभी बड़ी गतिविधियां संचालित होंगी। इस नई ब्रांडिंग के तहत गूगल अपनी सबसे लोकप्रिय सेवाओं को बरकरार रखेगा जिसमें इंटरनेट सर्च, एप, यूट्यूब और एंड्रॉयड शामिल हैं। इसके अलावा अल्फाबेट इंक में निवेश और शोध इकाइयां, स्मार्ट-होम यूनिट नेस्ट और ड्रोन शाखा शामिल होंगी। लैरी पेज अल्फाबेट के सीईओ बने जबकि भारत में जन्मे सीनियर वाइस प्रेसीडेंट सुंदर पिचाई को गूगल का सीईओ बनाया गया। गूगल के सह संस्थापक सेरगे ब्रिन अल्फाबेट के प्रेसिडेंट बनाए गए। गूगल के मौजूदा चेयरमैन एरिक श्मिट को अल्फाबेट का कार्यकारी चेयरमैन बनाया गया।
फोक्सवैगन उत्सर्जन घोटाला
र्जमनी की कार बनाने वाली कंपनी फोक्सवैगन पर यूरोपीय बाजार में बेची गई 98000 पेट्रोल कारों में कार्बनडायआक्साइड उत्सर्जन के मामले में धोखाधड़ी का आरोप लगा। इससे पहले दुनिया भर में 11 मिलियन डीजल कारों की उत्सर्जन जांच में भी धोखाधड़ी का आरोप है। फोक्सवैगन उत्सर्जन घोटाला कांड में पहली बार उसकी पेट्रोल कारों में गड़बड़ी का आरोप लगा। बिलासपुर, रविवार,
बीओबी का घोटाला
बैंक ऑफ बड़ौदा की एक शाखा से 6000 करोड़ का काला धन देश के बाहर भेजा गया। दिल्ली के अशोक विहार में बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) की एक शाखा से 59 कंपनियों ने फर्जी खाते खोले गए थे और उन खातों के जरिए 6000 करोड़ का काला धन हांगकांग भेजा गया था। इन 59 कंपनियों में ड्राई फ्रूट्स, दालें, चावल आदि के आयात दिखाए गए, लेकिन हकीकत में कुछ भी आयात नहीं हुआ। जांच में पाया गया कि अगस्त 2014 से अगस्त 2015 तक इन 59 खातों में ज्यादातर फॉरेक्स रिमिटंसेज और दूसरे बैंकों से ट्रांसफर के जरिए 6,172 करोड़ रुपये जमा किए गए। दुनिया का पहला वाशेबल फोन
खास स्मार्टफोन 'डिग्नो रैफरे' लॉन्च
इस साल जापान की कंपनी ने एक ऐसा खास स्मार्टफोन 'डिग्नो रैफरे' लॉन्च किया, जिसे आप कपड़े की तरह धुल सकते हैं। किसी भी स्मार्टफोन के बैक्टीरिया और कीटाणुओं की चपेट में आने का अधिक खतरा है, संभवत: इसीलिए कंपनी का ध्यान दुनिया का पहला वॉशेबल (धुले जाने वाला) फोन उतारने पर ध्यान गया। यह स्मार्टफोन वाटरप्रूफ और साबुन प्रतिरोधी है, इसलिए इसे मजे से नल के पानी में धुला जा सकता है। डिग्नो रैफरे की कीमत करीब 470 अमेरिकी डॉलर है।
जियोनी का मेड इन इंडिया फोन
चीन की कंपनी जियोनी ने भारत में बना अपना पहला स्मार्टफोन एफ103 लॉन्च किया। इसमें 2जीबी की रैम है और यह 4जी फोन है। कंपनी आयातित एफ103 पहले से ही बेच रही थी, लेकिन अब वह मेड इन इंडिया संस्करण बेचेगी। इसकी कीमत 9,999 रुपए है।
इंटेक्स का सस्ता स्मार्टफोन
घरेलू हैंडसेट निर्माता कंपनी, इंटेक्स टेक्नोलॉजीज ने सस्ते स्मार्टफोन सीरीज एक्वो पॉवर के अंततर्गत एक नया स्मार्टफोन एक्वो पावर-2 लॉन्च किया, जिसकी कीमत 6,490 रुपये है। 4,000 एमएएच बैटरी वाला यह एंड्रॉयड लॉलीपॉप ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलता है।
आसुस के चार नए मॉडल
आसुस ने अगस्त में नई दिल्ली में आयोजित अपने जेन फेस्टिवल इवेंट में चार नए स्मार्टफोन लॉन्च किए। कंपनी ने इस इवेंट में जेऩफोन सेल्फी, जेनफोन 2 लेजर, जेनफोन 2 डीलक्स और जेऩफोन मैक्स स्मार्टफोन पेश किया। जेऩफोन सेल्फी की कीमत 15,999 रुपये व जेनफोन 2 डीलक्स की 22,999 रुपये है। चारो फोन एंड्रॉयड 5.0 ऑपरेटिंग सिस्टम पर बेस्ड हैं और 4जी सपोर्ट के साथ आये। कंपनी ने अपने टैबलेट जेनपेड के तीन संस्करण भी पेश किए।
हुवावेई के 4 सस्ते स्मार्टफोन
चीन की स्मार्टफोन कंपनी हुवावेई ने जुलाई में बजट सेगमेंट में वाई 336, वाई 541, वाई 625 और जी 620 एस चार स्मार्टफोन लांच किए। ये स्मार्टफोन 5,499 रुपये से 9,499 रुपये में उपलब्ध हैं।
एक्सपेरिया एम-4 एक्वा
सोनी इंडिया ने मई में एक स्मार्टफोन एक्सपेरिया एम4 एक्वा लॉन्च किया जो कि एक वाटरप्रूफ हैंडसेट है। 25,000 रुपये की कीमत वाला एक्सपेरिया एम4 एक्वा का 13 एमपी रियर कैमरा के साथ है।
सैमसंग का ताइजेन
दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन कंपनी सैमसंग ने अपने ताइजेन ऑपरेटिंग सिस्टम (ओएस) आधारित फोन को जनवरी में पेश किया। इसकी कीमत 5,700 रुपये है।
गैलेक्सी का एस6-एस6 एज
सैमसंग ने मार्च में अपने दो नए स्मार्टफोन सैमसंग गैलेक्स एस6 व गैलेक्सी एस6 एज भारत में लॉन्च किए। एस6 की कीमत 49,900 रुपये और एस6 एज की 58900 रुपये थी। एस6 में 2550 एमएएच व एस6 एज में 2600 एमएएच की बैटरी है।
माइक्रोसॉफ्ट के पांच मॉडल
माइक्रोसॉफ्ट ने मई में भारतीय बाजार में दो सिम वाला स्मार्ट फोन लूमिया 430 लॉन्च किया। इसकी कीमत 5299 रुपये रखी। लूमिया 430 दो सिम के साथ विंडोज 8.1 ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है। माइक्रोसॉफ्ट ने मार्च में दो नए स्मार्टफोन लूमिया 640 तथा लूमिया 640 एक्स एल लॉन्च किए। ये दोनों फोन 10 से 15 हजार के बीच हैं। इससे पहले माइक्रोसॉफ्ट ने सस्ते स्मार्टफोन सेगमेंट में दो नए हैंडसेट लूमिया-532 और लूमिया 435 लॉन्च किए।
माइक्रोमैक्स का सस्ता फोन
माइक्रोमैक्स ने सस्ता मोबाइल हैंडसेट लॉन्च किया। इसकी कीमत 699 रुपये से शुरू है। पहला हैंडसेट जॉय एक्स-1800 में 1.76 ईंच स्क्रीन, 750 एमएएच बैटरी, 0.08 एमपी कैमरा, 4जीबी तक विस्तार योग्य मेमोरी तथा रेडियो एफएम है। इसकी कीमत 699 रुपये है। 1,880एमएएच बैटरी वाला माइक्रोमैक्स जॉय एक्स-1850 की कीमत 749 रुपये है। राजू को सात साल जेल
सत्यम
भारत के कॉरपोरेट जगत को हिला देने वाली अब तक की सबसे बड़ी लेखा धोखाधड़ी के 6 साल बाद 9 अप्रैल को सत्यम कंप्यूटर सर्विसेज लिमिटेड (एससीएसएल) प्रमुख बी रामलिंग राजू और 9 अन्य को एक विशेष अदालत ने कंपनी के खातों में हेरफेर से जुड़े 7,000 करोड़ घोटाले में आपराधिक षड़यंत्र और धोखाधड़ी का दोषी पाया और 7-7 साल की सजा सुनाई। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स (सियाम) के मुताबिक साल 2015 नई कार लांचिंग के हिसाब से कार इंडस्ट्री के लिए शानदार सालों में से एक रहा।
टाटा नैनो सीएनजी
टाटा ने इस साल नैनो कार के सीएनजी वर्जन को बाजार में उतारा। इस गाड़ी की माइलेज 36 किलोमीटर प्रति किलो की है। दिल्ली में इस कार की एक्सशोरूम कीमत 2.51 लाख रुपये रखी गई।
मारुति ऑल्टो 800 सीएनजी
मारुति ने अल्टो 800 का सीएनजी वर्जन बाजार में उतारा। यह 30.46 किलोमीटर प्रति किलो का शानदार माइलेज देता है। दिल्ली में अल्टो 800 सीएनजी वर्जन का एक्सशोरूम रेट 3.65 लाख रुपये रखा गया।
होंडा अमेज सीएनजी
होंडा की ये पहली कॉम्पेक्ट सेडान कार है जिसमें कंपनी ने सीएनजी किट लगाई है। कंपनी इस नए वेरिएंट पर 2 साल की स्टैंडर्ड वारंटी भी देती है। दिल्ली में इस वेरिएंट की एक्सशोरूम कीमत 6.53 लाख रुपये रखी गई।
अन्य कई मॉडल
इसके अलावा मारुति ने अक्टूबर में नई हैचबैक कार बलेनो, सेलेरियो का डीजल वर्जन, वैगन आर का नया मॉडल अवांस, अगस्त में नई प्रीमियम कारें एस-क्रॉस, सितंबर में सियाज का हाइब्रिड वर्जन, रीनॉल्ट ने क्विड, कोरियाई कार कंपनी हुंडई ने एसयूवी र्शेणी में क्रेटा, टोयोटा ने नई इनोवा, फोर्ड इंडिया ने अपनी कांपैक्ट कार फिगो का नया संस्करण सितंबर में बीएमडब्ल्यू ने हाइड्रोजन से चलने वाली बीएमडब्ल्यू आई8 सुपर कार र्मसडीज-बेंज ने करीब एक दर्जन नए मॉडल लांच किए।
तीन स्वर्ण योजनाओं की शुरूआत
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पांच नवंबर 2015 को तीन स्वर्ण संबंधी योजनाओं की शुरूआत की। ये योजनाएं हैं: स्वर्ण मौद्रीकरण योजना, सार्वभौम गोल्ड बांड योजना और भारतीय स्वर्ण सिक्का। स्वर्ण मौद्रीकरण योजना बैंक में सोना अल्पावधि (1-3 वर्ष), मध्यावधि (5-7 वर्ष) और दीर्घावधि (12-15 साल) के लिए रखने का अवसर प्रदान करती है। डिपाजिट रखे गए सोने पर 2.5 फीसदी की दर से ब्याज प्राप्त होगा और वह पूंजी लाभ सहित कई अन्य करों से मुक्त होगा। सावरेन स्वर्ण बॉन्ड योजना के तहत निवेशक रिर्जव बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी किए गए बॉन्ड पत्र खरीद सकेंगे। 24 कैरेट का सोने का सिक्का निकालने की भी योजना है। देश में इस तरह की यह पहली योजना है। प्रधानमंत्री ने कहा, कोई कारण नहीं है कि भारत को गरीब देश कहा जाए, उसके पास 20,000 टन सोना है। पीएम नरेंद्र मोदी ने 8 अप्रैल को देश में छोटे कारोबारियों को आसान कर्ज मुहैया कराने के मकसद से प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना की शुरूआत की। मुद्रा बैंक फिलहाल एनबीएफसी के तौर पर काम करेगा। यह माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट फंड रिफाइनेंस एजेंसी होगी। इस मुद्रा योजना में 50 हजार से 10 लाख रुपये तक के सस्ते लोन दिए जाएंगे। शुरूआती दौर में मुद्रा बैंक सिडपी की यूनिट के तौर पर काम करेगी। इससे 3 तरह के लोन मिलेंगे। इनके नाम होंगे शिशु, किशोर और तरुण। शिशु योजना के तहत 50 हजार रुपये तक के लोन दिए जाएंगे। किशोर योजना के तहत 50 हजार रुपये से 5 लाख रुपये तक के लोन दिए जाएंगे। तरुण योजना के तहत 5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक के लोन दिए जाएंगे। मुद्रा बैंक से देश के करीब 5 करोड़ 77 लाख छोटे कारोबारियों को फायदा मिलेगा। छोटी विनिर्माण ईकाई और दुकानदारों को इससे लोन मिलेगा। इसके साथ ही सब्जी वालों, सैलून, खोमचे वालों को भी इस योजना के तहत लोन मिल सकेगा।
एफडीआई की सीमा बढ़ी
मोदी सरकार ने 10 नवंबर को एफडीआई नियमों को आसान करने का फैसला लिया, जिसमें एफडीआई प्रस्ताव की लिमिट को 3,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 5,000 करोड़ रुपये कर दिया गया। 5,000 करोड़ रुपये तक के एफडीआई प्रस्तावों को एफआईपीबी की मंजूरी लेना जरूरी नहीं होगा। जहां एफडीआई पहले से 100 फीसदी तक है। सरकार ने डिफेंस, ब्रॉडकास्टिंग, प्राइवेट बैंकिंग, एग्रीकल्चर, प्लांटेशन, माइनिंग, सिविल एविएशन, कंस्ट्रक्शन डेवलपमेंट, सिंगल ब्रांड रिटेल, कैश एंड कैरी होलसेल और मैन्युफैरिंग समेत 15 सेक्टरों में विदेशी निवेश की सीमा बढ़ा दी। व र्ष 2015 में जब समूची दुनिया की अर्थव्यवस्था कराह रही थी, भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती से विकास दर को रफ्तार दे रही थी। मोदी सरकार को पांच फीसदी विकास दर वाली अर्थव्यवस्था विरासत में मिली थी, लेकिन दो वित्त वर्ष से भी कम समय में सरकार ने अपने सुधारात्मक कदम के दम पर देश की अर्थव्यवस्था को साढ़े सात फीसदी की दर से वृद्धि करने वाली इकॉनोमी बना दी। चालू वर्ष में जहां यूरोप में फिर ग्रीस संकट उभरा, अमेरिकी अर्थव्यवस्था धीमी रही, ब्रिटेन, फ्रांस व र्जमनी ग्रोथ के लिए जूझते नजर आए, जापानी अर्थव्यवस्था नए निवेश के लिए तरसती रही, चीनी अर्थव्यवस्था का बुलबुला फटा और उसे अपने गिरते निर्यात को थामने के लिए अपनी मुद्रा युआन का अवमूल्यन करना पड़ा, वहीं भारतीय अर्थव्यवस्था ने 7.5 फीसदी की दर से विकास किया। ग्लोबल रेटिंग एजेंसियां-मूडीज, फिच, एसएंडपी और नोमुरा ने भारत की रेटिंग को लेकर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। इस साल जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ताबड़तोड़ विदेश यात्राओं से भारत के हित में कई आर्थिक व निवेश समझौते किए, वहीं घरेलू मोर्चे पर भी कई फैसले किए गए। रिर्जव बैंक ने दो बार रेपो दरों में कटौती की, सरकार ने एफडीआई नियमों में ढील भी दी और इसकी सीमा भी बढ़ाई। कॉरपोरेट टैक्स के बोझिल नियमों को सरल बनाया। प्रोजेक्टों की सरकारी मंजूरी की प्रक्रिया को आसान बनाई। सब्सिडी बोझ को कम करने की कोशिश की गई, चालू वित्तीय घाटा व राजस्व घाटा को कम करने करने की कोशिश की गई। इतना ही नहीं, मोदी सरकार ने आर्थिक सुधार को इनक्लूसिव सोशल डेवलपमेंट से जोड़ने के लिए भी कई गेम चेंजर कदम उठाए। 12 रुपये प्रीमियम वाली प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और अटल पेंशन योजना गरीबों के लिए बड़ा ऐलान रहीं। ये योजनाएं एक साथ देश की 115 जगहों पर शुरू की गईं। इसके अलावा तीन स्वर्ण मौद्रीकरण योजनाएं, मुद्रा बैंक, डिजीटल इंडिया, ई-लॉकर सर्विस और स्मार्ट सिटी योजना ने आर्थिक सुधार की दिशा में सरकार के बड़े मंसूबों का इजहार किया। आने वाले वर्षों में सरकार के इन कदमों का अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक असर पड़ेगा। हालांकि 2015 में मोदी सरकार जीएसटी बिल और भूमि सुधार बिल पास नहीं करा पाई। लाई-फाई : वाई-फाई से 100 गुना तेज स्पीड
लाई-फाई
लाई-फाई यानी कि लाइट फिडेलिटी। इसकी स्पीड वाई-फाई से 100 गुना तेज है। इससे एक सेकेंड में फिल्म डाउनलोड होगी। इसकी खोज 2011 में स्कॉटलैंड के एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी के साइंटिस्ट हेराल्ड हास ने की थी। हालांकि लैब के बाहर इसकी सक्सेसफुल टेस्टिंग पहली बार दिसंबर 2015 में हुई।
फोल्डेबल पेपर थिन टीवी
2015 में एलजी ने 18 इंच का फोल्डेबल और पेपन थिन टेलीविजन लॉन्च किया। टीवी लचीला होने के साथ ही कर्व्ड भी है। इन्हें आसानी से मोड़ा जा सकता है। ये अनब्रेकेबल है। इसे लगाने के लिए आपको बस एक पतला मैग्नेटिक बेस दीवार पर लगाना होगा। इसे जब चाहे तब लगा सकते हैं और जब चाहे तब हटा सकते हैं। इसकी पिक्चर क्वालिटी नॉर्मल एचडी टीवी की तुलना में करीब 16 गुना अधिक है।

होलोलेंस: वियरेबल गैजेट से 3डी एक्सपीरियंस
माइक्रोसॉफ्ट ने अप्रैल 2015 में बिल्ड डेवलपर्स के दौरान हाईटेक होलोलेंस पेश किया था। ये वचरुअल रिएलिटी हेडसेट उन लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जो बेहतर 3डी एक्सपीरिएंस चाहते हैं। होलोलेंस अपने आप में एक होलोग्राफिक कम्प्यूटर है, जो यूर्जस की आंखों के सामने वचरुअल फोटो बनाता है।
टेक शो आईएफए-2015 में कारपेट स्पीकर्स पेश
इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स बनाने वाली कंपनी पैनासॉनिक ने इस साल सितंबर महीने में बर्लिन में हुए टेक शो आईएफए-2015 में कारपेट स्पीकर्स पेश किया। इसको आने वाले साल में कर्मशियली लॉन्च करने की उम्मीद है।
यूएस का सबसे बड़ा स्टील्थ जहाज
अमेरिका में मिसाइल डेस्ट्रॉयर जहाज यूएसएस जुमवाल्ट का ट्रायल किया गया। यह यूएस का सबसे बड़ा स्टील्थ (इसे दुश्मन का रडार नहीं पकड़ सकता है) मिसाइल डेस्ट्रॉयर है। यह करीब 100 किलोमीटर की दूरी से ही दुश्मन मिसाइल को तबाह कर सकता है।
इंटरनेट सर्च
सेरगे ब्रिन अल्फाबेट के प्रेसिडेंट गूगल सबसे लोकप्रिय सेवाओं को बरकरार रखेगा जिसमें इंटरनेट सर्च, एप, यूट्यूब और एंड्रॉयड शामिल हैं। अल्फाबेट इंक में निवेश शोध इकाइयां, स्मार्ट-होम यूनिट नेस्ट व ड्रोन शाखा शामिल होंगी। गूगल सह संस्थापक सेरगे ब्रिन अल्फाबेट के प्रेसिडेंट बनाए गए। 2022 तक सबको घर का वादा आवास योजना के तहत 2022 तक देश के तमाम परिवारों को घर मुहैया करवाया जाएगा। सभी के लिए आवास योजना के तहत अगले 7 साल में दो करोड़ मकानों का शहरी क्षेत्रों में निर्माण किया जाएगा।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारियां -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story