Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सोनिया का इंटरव्यूः कांग्रेस में मोदी का सामना करने वालों की कमी

सोनिया ने बताया कि वह राजनीति में कभी नहीं आना चाहती थीं

सोनिया का इंटरव्यूः कांग्रेस में मोदी का सामना करने वालों की कमी
नई दिल्ली. कांग्रेस वरिष्ठ नेता और अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 9 साल बाद किसी मीडिया संस्थान को इंटरव्यू दिया। सोनिया ने अपना यह इंटरव्यू इंडिया टुडे के पत्रकार राजदीप सरदेसाई को दिया। सोनिया ने इंटरव्यू में कई मुद्दों पर खुलकर बात की। इस इंटरव्यू में उन्होंने इंदिरा गांधी, उनकी हत्‍या, राजीव गांधी, कांग्रेस की वर्तमान स्थिति को लेकर बातें की।
सोनिया से जब पूछा कि क्‍या नरेंद्र मोदी की स्‍टाइल इंदिरा गांधी की तरह नहीं है, तो उन्‍हें जवाब दिया, ”बिलकुल नहीं।” इंदिरा गांधी की आम आदमी से सहानुभूति थी। आज के नेताओं में ऐसा नहीं है।
सोनिया ने साथ ही बताया कि वह राजनीति में कभी नहीं आना चाहती थी। राजनीति में परिवारवाद के सवाल पर कहा कि यदि डॉक्‍टर का बेटा डॉक्‍टर हो सकता है तो राजनेता का बेटा राजनेता क्‍यों नहीं। जनता इनका चुनाव करती हैं। उन्‍होंने कहा कि वह इंदिरा गांधी के चलते राजनीति में हैं। वह राजीव गांधी के राजनीति में आने के खिलाफ थी। राजीव पायलेट बनकर खुश थे।
कांग्रेस की वर्तमान स्थिति पर पूछे गए सवालों पर उन्‍होंने कहा कि वह इस बात से सहमत नहीं हैं कि कांग्रेस में नरेंद्र मोदी के मुकाबले का नेता नहीं है। पार्टी 44 सीटों से ऊपर आएगी। राजनीति में उतार चढ़ाव चलता रहता है। कभी आप हारते हैं तो कभी जीत जाते हैं। वर्तमान स्थितियों में कांग्रेस सही तरह से आगे बढ़ रही है।
प्रियंका गांधी में इंदिरा गांधी की झलक दिखने के सवाल पर सोनिया ने बताया कि उनके परिवार में सभी लोगों पर इंदिरा गांधी का असर है। फिर चाहे वह प्रियंका हो या राहुल हो। सब पर अलग-अलग तरह से उनका असर है।
राजनीति में आने के बारे में उन्‍होंने कहा कि राजनीति में जाना है या नहीं जाना, यह मेरा पहला सबसे मुश्किल निर्णय था। अगर वह इंदिरा गांधी की बहू नहीं होती तो कभी राजनीति में नहीं आती। राहुल गांधी के कांग्रेस प्रमुख बनने के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि इसका फैसला वह नहीं कर सकतीं। उन्‍होंने इंटरव्‍यू ऐसे समय में दिया है जब केंद्र सरकार 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद करने के चलते विपक्ष के हमले झेल रही हैं। साथ ही कांग्रेस ने इंदिरा गांधी जन्‍मशती वर्ष मनाना शुरू किया है और अगले साल यूपी में चुनाव होने हैं।
यूपी में कांग्रेस 27 साल से सत्‍ता से बाहर है। सोनिया और राहुल गांधी काफी कम इंटरव्यू देते हैं। राहुल ने 2014 में लोकसभा चुनावों से पहले टाइम्‍स नाऊ को इंटरव्यू दिया था। इसके अलावा एक अखबार को भी इंटरव्यू दिया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top