Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सोनिया गांधी के डिनर के बाद बोले तेजस्‍वी यादव, केंद्र की तानाशाह सरकार को हटाकर रहेंगे- ये नेता हुए शामिल

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यूपीए अध्यक्षा ने सौहार्द्र और मित्रता वाला भोज दिया है।

सोनिया गांधी के डिनर के बाद बोले तेजस्‍वी यादव, केंद्र की तानाशाह सरकार को हटाकर रहेंगे- ये नेता हुए शामिल
X

यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने विपक्षी पार्टियों की एकजुटता की रणनीति के तहत तथा भाजपा के विजय रथ को रोकने के लिए मंगलवार को विपक्षी पार्टियों के नेताओं को डिनर पर आमंत्रित किया। डिनर पार्टी का आयोजन सोनिया गांधी के आवास पर हुआ। इस डिनर पार्टी में 20 राजनीतिक दलों के नेता पहुंचे

इसमें 20 दलों को ही आमंत्रित गया था। डिनर में एनसीपी के शरद पवार और हाल ही में एनडीए से अलग हुए हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा नेता जीतन राम मांझी भी पहुंचे। माना जा रहा है कि इस डिनर के बाद आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों की एकता को बल मिल सकता है। यूपीए अध्यक्ष पहले ही आम चुनाव को लेकर विपक्षी दलों से मतभेद भुलाकर साथ आने की अपील कर चुकी हैं।

यह भी पढ़ेंं- गुजरात स्पीकर ने कांग्रेस के 28 विधायकों को किया निलंबित, जानिए क्या है पूरा मामला

2004 के चुनाव में भी कांग्रेस ने सहयोगी दलों को मिलाकर एक यूपीए बनाया था और राज्यों में साझेदारी करके भाजपा की अगुवाई वाले गठबंधन एनडीए को हरा दिया था। इस डिनर के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि यह एक दोस्ताना बैठक थी। इसमें देश के संविधान को बचाने के लिए चर्चा की गई। केंद्र में इस समय तानाशाह सरकार है और हम इस सरकार को हटाना चाहते हैं।

आज एनडीए का कोई भी सहयोगी खुश नहीं है। अकाली दल, शिवसेना, टीडीपी सभी नाराज हैं। यह बैठक तो बस एक शुरुआत है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यूपीए अध्यक्षा ने सौहार्द्र और मित्रता वाला भोज दिया है। सरकार जहां दीवारें खड़ी करेगी, तो हम सबसे मिलकर रहेंगे। सरकार संसद चला नहीं रही जिससे कि किसान, गरीब, मज़दूर के मुद्दे पर चर्चा हो।

डिनर में इन पार्टियों के नेता शामिल हुए

1- समाजवादी पार्टी- रामगोपाल यादव

2- एनसीपी- शरद पवार

3- राजद- तेजस्वी यादव और मीसा भारती

4- नेशनल कॉन्फ्रेंस- उमर अबदुल्ला

5- झारखंड मुक्ति मोर्चा- हेमंत सोरेन

6- सीपीआई- डी राजा

7- रालोद- अजित सिंह

8- सीपीएम- मोहम्मद सलीम

9- डीएमके- कनिमोझी

10- बीएसपी- सतीश मिश्रा

11- जेवीएम- बाबूलाल मरांडी

12- आरएसपी- रामचंद्र

13- हिंदुस्तान अवाम मोर्चा- जीतन राम मांझी

14- जेडीएस- डॉ. के रेड्डी

15- एआईयूडीएफ- बदरुद्दीन अजमल

16- तृणमूल कांग्रेस- सुदीप बंदोपाध्याय

17- आईयूएमएल- कुट्टी

18- केरल कांग्रेस के जोश के मनी

19- हिंदुस्तान ट्राइबल पार्टी- शरद यादव

20- कांग्रेस के राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, मनमोहन सिंह, एके एंटनी, रणदीप सुरजेवाला, अहमद पटेल आदि।

इनको भेजा गया था आमंत्रण

कांग्रेस, सपा, बीएसपी, टीएमसी, सीपीएम, सीपीआई, डीएमके, जेएमएम, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा, आरजेडी, जेडीएस, केरल कांग्रेस, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, आरएसपी, एनसीपी, नेशनल कांफ्रेंस, एआईयूडीएफ, आरएलडी को न्यौता भेजा गया था। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस डिनर में शामिल नहीं हुईं। उनकी पार्टी की तरफ से सुदीप बंदोपाध्याय पहुंचे।

साफ है कि इस डिनर डिप्लोमेसी के जरिये सोनिया एक तीर से दो निशाना साधना चाहती हैं। विपक्षी नेताओं को डिनर पर बुलाकर वह ये साबित करना चाहती हैं कि मोदी के विकल्प के तौर पर बनने वाले गठजोड़ का नेतृत्व कांग्रेस के पास ही होगा।

इनको नहीं भेजा गया था आमंत्रण

कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक आंध्र प्रदेश की सत्तारुढ़ तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा), बीजद और टीआरएस के नेताओं को निमंत्रित नहीं किया गया। तेदेपा ने हाल ही में अपने मंत्रियों को नरेंद्र मोदी सरकार से हटा लिया है लेकिन वह राजग का घटक बनी हुई है। बीजद और टीआरएस का क्रमश ओडिशा और तेलंगाना में शासन है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story