Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सियाचिन में ऑपरेशन मेघदूत के बाद अब तक 922 जवान हुए शहीद: रिपोर्ट

यहां जवानों की तैनाती तीन से पांच महीनों के लिए की जाती है।

सियाचिन में ऑपरेशन मेघदूत के बाद अब तक 922 जवान हुए शहीद: रिपोर्ट
X
नई दिल्ली. दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र के नाम से विख्यात सियाचिन ग्लेशियर में 1984 के ऑपरेशन मेघदूत के बाद से लेकर अब तक सेना के कुल 922 जांबाजों ने अपनी जान गवाई है। इसमें 35 अधिकारी और 887 जेसीओ और ओआर भी शामिल हैं। यह आंकड़ा 1984 से लेकर 18 नवंबर 2016 तक का है। यह जानकारी रक्षा राज्य मंत्री डॉ.सुभाष भामरे ने राज्यसभा में सांसद माजिद मेनन द्वारा पूछे गए एक प्रश्न के लिखित जवाब में दी। उन्होंने कहा कि सियाचिन ग्लेशियर में ड्यूटी पर तैनाती के समय मृत्यु होने पर मृतक के परिवार के सदस्य को 35 लाख रुपए की राशि दी जाएगी। इसमें दुर्लभ बॉर्डर पोस्ट पर तैनाती से लेकर प्राकृतिक आपदा, प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों में होने वाली मृत्यु में भी 35 लाख की राशि दी जाएगी।
ग्लेशियर की प्रतिकूलता
सियाचिन ग्लेशियर तीन भागों में बंटा हुआ है। इसमें उत्तरी, केंद्रीय और दक्षिणी ग्लेशियर शामिल है। यहां ग्लेशियर की ऊंचाई समुद्रतल से 20 हजार फीट है। यह कुल करीब 74 किलोमीटर के८ इलाके में फैला हुआ है। सर्दियों में यहां तापमान माइन्स 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। इसके अलावा सर्दियों में यहां औसत एक हजार सेंटीमीटर से ज्यादा बर्फ गिरती है। ग्लेशियर से पिघलने वाली बर्फ लद्दाख की नुब्रा नदी के पानी का मुख्य स्रोत है। सियाचिन में तैनात जवानों और अधिकारियों को जरूरी चीजों की सप्लाई करने के लिए रोजाना 6.8 करोड़ रुपए का खर्च आता है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जो रोटी आम जगहों पर दो रुपए में मिल जाती है। वो सियाचिन तक पहुंचते-पहुंचते 200 रुपए की हो जाती है।
अन्य लाभ
सियाचिन के बेहद ठंडे वातावरण को देखते हुए यहां जवानों की तैनाती तीन से पांच महीनों के लिए की जाती है। 35 लाख रुपए की एक्सग्रेशिया राशि के अलावा सेवानिवृति नियमों के हिसाब से मृतक के परिवार को पारिवारिक पेंशन, रिटायरमेंट ग्रेच्युटी भी दी जाती है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story