Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सोशल मीडिया पर शराब का किया समर्थन तो होगी जेल

शराबबंदी के खिलाफ टिप्पणी भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

सोशल मीडिया पर शराब का किया समर्थन तो होगी जेल
भागलपुर. बिहार में शराबबंदी का नया कानून दो अक्टूबर से लागू हो गया है। अब किसी भी माध्यम से शराब का समर्थन करना अपराध माना जाएगा। चाहे वह सोशल मीडिया ही क्यों न हो।
नए कानून के तहत फेसबुक, व्हॉट्सएप, ट्विटर और मैसेंजर आदि पर शराबबंदी के खिलाफ टिप्पणी करने वालों जेल की हवा खानी पड़ेगी। शराबबंदी को सख्ती से लागू कराने की जिम्मेदारी डीएम को दी गई है। उत्पाद विभाग के अलावा पुलिस भी इस कानून के तहत डीएम के अधीन काम करेगी।
जिला पदाधिकारी आदेश तितरमारे ने बताया कि नए कानून के तहत 24 घंटे में कहीं भी शराब को लेकर कार्रवाई होती है तो डीएम को सूचना देनी होगी। कानून को सख्ती से लागू करने के लिए भागलपुर जिले के सीओ, बीडीओ, सभी एसडीओ व डीसीएलआर को शक्ति प्रदान की गई है।
कानून का अर्थ यह है कि शराब की बिक्री, सेवन, संग्रहण व ट्रांसर्पोटेशन पर पूर्णतया रोक। इसके साथ ही किसी भी माध्यम से शराबबंदी के खिलाफ टिप्पणी भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके लिए खुद डीएम की ओर से सोशल मीडिया की मानीटरिंग कराई जाएगी।
अगर कोई व्यक्ति सोशल साइट पर शराबबंदी के खिलाफ लिखता है तो उस पर भी कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने कहा कि जिले में शराबियों की जांच के लिए ब्रेथ एनलाइजर मशीन पर्याप्त संख्या में है। सभी थानों को इसकी आपूर्ति कर दी गई है।
नए कानून में ट्रांसफर हो जाएंगे पुराने मामले
डीएम ने कहा कि दो अक्टूबर से पहले शराब के नाम पर जो भी कार्रवाई हुई है, वे सभी मामले नए कानून में ट्रांसफर हो जाएंगे। राज्य सरकार इस संबंध में निर्णय लेगी कि पुरानी अधिसूचना के तहत हुई कार्रवाई वैध है या अवैध। उन्होंने कहा कि एक अक्टूबर से पहले जो भी कार्रवाई हुई है, उसमें जो गाडिय़ां जब्त हुई हैं उनकी नीलामी होगी। शराबियों के खिलाफ अधिकृत कोई भी पदाधिकारी धरपकड़ की कार्रवाई कर सकते हैं।

मुखिया जी बताएंगे उनके क्षेत्र में कहां-कहां बिक रही शराब
शराबबंदी लागू कराने के लिए मुखिया को भी जिम्मेदारी दी गई है। इसके लिए पिछले दिनों पंचायत अनुश्रवण समिति की बैठक हुई थी। मुखिया से जानकारी मांगी गई है कि उनके क्षेत्र में कहां-कहां अवैध तरीके से शराब बिकती है। मुखिया यह भी जानकारी देंगे कि उनके क्षेत्र में शराब अवैध तरीके से कहां बनाई जाती है।

साभार- दैनिक जागरण
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top