Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दूसरी महिला रक्षामंत्री बनते ही निर्मला सीतारमण ने लिया ये पहला फैसला

रक्षा मंत्री ने कहा कि समग्र रक्षा क्षमताओं में ''मेक इन इंडिया'' को बड़ी भूमिका निभाने की आवश्यकता है।

दूसरी महिला रक्षामंत्री बनते ही निर्मला सीतारमण ने लिया ये पहला फैसला

निर्मला सीतारमण ने गुरूवार को देश की पहली पूर्णकालिक महिला रक्षा मंत्री के तौर पर कार्यभार संभाल लिया। उन्होंने कहा कि सैन्य तैयारियां, सैन्य उपकरणों के उत्पादन का स्वदेशीकरण, बहुत समय से लंबित मुद्दों का हल और सैनिकों का कल्याण उनके प्राथमिकता क्षेत्रों में शामिल हैं।

निर्मला ने अपने पूर्व रक्षामंत्री अरुण जेटली की मौजूदगी में कार्यभाल संभाला। आपको बता दें कि इससे पहले 1970 के दशक में इंदिरा गांधी देश की पहली महिला रक्षामंत्री बनी थी। प्रधानमंत्री रहते हुए इंदिरा गांधी के पास यह मंत्रालय था।

मनोहर पर्रिकर के इस्तीफे के बाद मार्च में जेटली को रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया था। पर्रिकर ने गोवा का मुख्यमंत्री पद संभालने के लिए केंद्रीय कैबिनेट से इस्तीफा दिया था।

इसे भी पढ़ें- देश को महिला रक्षा मंत्री देने के पीछे ये थी असली वजह

निर्मला ने संवाददाताओं से कहा कि मेरी प्राथमिकता निश्चित तौर पर सशस्त्र बल रहेंगे। यह महत्वपूर्ण है कि भारतीय सशस्त्र बलों को आवश्यक बंदोबस्त और उपकरण मुहैया कराने के मामले में पूरा ध्यान दिया जाए।

सशस्त्र बल चीन द्वारा सीमाओं पर आक्रामक रवैया अपनाने और पाकिस्तान द्वारा चलाये जा रहे निर्बाध छद्म युद्ध के मद्देनजर अपनी समग्र क्षमताएं बढ़ाने पर जोर दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं केन्द्रीय मंत्रिमंडल से बातचीत कर बहुत समय से लंबित मामलों का समाधान निकालना तथा 'मेक इन इंडिया' पहल के प्रभावी क्रियान्वयन पर भी जोर दिया जाएगा।

रक्षा मंत्री ने कहा कि समग्र रक्षा क्षमताओं में मेक इन इंडिया को बड़ी भूमिका निभाने की आवश्यकता है क्योंकि यह सरकार के लिए बहुत जरूरी है।

Next Story
Share it
Top