Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बड़े संकट का सामना कर रहे हैं भारत के स्कूलः सिंगापुर डिप्टी पीएम

मोदी ने कहा कि परिवर्तन के लिए कानून में बदलाव जरूरी है।

बड़े संकट का सामना कर रहे हैं भारत के स्कूलः सिंगापुर डिप्टी पीएम
नई दिल्ली. भारत के उच्च प्राथमिक स्कूलों में बीच में ही पढ़ाई छोड़ने वाले छात्र-छात्राओं की ऊंची दर की तरफ ध्यान दिलाते हुए सिंगापुर के उप-प्रधानमंत्री थरमन शनमुगरत्नम ने शुक्रवार को कहा कि भारत में स्कूल सबसे बड़े संकट का सामना कर रहे हैं।
भारत सरकार के थिंक-टैंक नीति आयोग की ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया पहल का पहला व्याख्यान देते हुए उन्होंने कहा कि जनसंख्या के मामले में दुनिया के दूसरे सबसे बड़े देश में भी शीर्ष और निचले स्तर के बीच प्रतिभा का काफी बड़ा अंतर है।
सामाजिक गतिशीलता की जरूरत पर जोर देते हुए शनमुगरत्नम ने कहा कि प्रयोगों में देखा गया है कि किसी बच्चे के जीवन-चक्र में जल्द होने वाली शुरूआत का काफी फायदा होता है।
उन्होंने कहा कि जन्म से पहले के चरण में दखल काफी निर्णायक साबित होता है। इसके बाद स्कूल से पहले के अवसरों की बारी आती है। उन्होंने कहा कि इस बाबत भारत में कुछ अहम योजनाएं हैं। उन्होंने समेकित बाल विकास सेवाओं (आईसीडीएस) और आंगनबाड़ी जैसे कार्यक्रमों के नतीजों का भी हवाला दिया।
परिवर्तन के लिए कानून में बदलाव जरूरी: मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के तीव्र परिवर्तन के बारे में विचार प्रकट करते हुए कहा कि इसके लिए देश को कानूनों में बदलाव, अनावश्यक औपचारिकताओं को समाप्त करने और प्रक्रियाओं को तीव्र करने की आवश्यकता है, क्योंकि केवल रत्ती-रत्ती प्रगति से काम नहीं चलेगा। मोदी ने कहा कि यदि भारत को परिवर्तन की चुनौतियों से निपटना है, तो केवल रत्ती-रत्ती आगे बढ़ने से काम नहीं चलेगा। आवश्यकता कायाकल्प की है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top