Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सुपुर्द-ए-खाक हुए हनुमनथप्पा, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

शहीद लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ का पार्थिव शरीर देर रात हुब्बली लाया गया था।

सुपुर्द-ए-खाक हुए हनुमनथप्पा, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार
नई दिल्ली. सियाचिन के जांबाज सैनिक लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ का अंतिम संस्कार शुक्रवार को कर्नाटक के धारवाड़ जिला स्थित उनके पैतृक गांव बेतादुर में पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। शहीद लांस नायक हनमंथप्पा कोप्पड़ का पार्थिव शरीर देर रात यहां हुब्बली लाया गया।
सियाचिन में चमत्कारिक रूप से जीवित बचने के बाद जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हनमंथप्पा का गुरूवार को निधन हो गया था। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया अपने मंत्रिमंडलीय सहयोगी एच के पाटिल और विनय कुलकर्णी के साथ हनमंथप्पा के पार्थिव शरीर को लेने हवाईअड्डे गए । उनके साथ विधानसभा में विपक्ष के नेता जगदीश शेट्टार और कई अन्य लोग भी थे। कर्नाटक सरकार ने शोकाकुल परिवार के लिए 25 लाख रूपए की अनुग्रह राशि घोषित की है।
सियाचिन ग्लेशियर से चमत्कारिक रूप से जीवित निकाले गये बहादुर सैनिक लांस नायक हनमनथप्पा कोप्पड का गुरुवार को निधन हो गया। उन्होंने सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर अंतिम सांस ली। कर्नाटक के धारवाड़ के बेटादूर गांव के रहने वाले कोप्पड 13 वर्ष पहले सेना से जुड़े थे। उन्हें नौ फरवरी को यहां आर्मी रिसर्च ऐंड रेफरल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। तीन फरवरी को 19,600 फुट की उंचाई पर सियाचिन में हिमस्खलन के बाद बर्फ में दबने के बावजूद वह छह दिन तक मौत को मात देने में सफल रहे थे। उन्हें चमत्कारी मानव का नाम दिया गया है।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारियां-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top