Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सिद्धगंगा मठ के प्रमुख स्वामी शिवकुमार का 111 साल की उम्र में निधन

कर्नाटक के तुमकुरु स्थित सिद्धगंगा मठ के प्रमुख डॉ. शिवकुमार स्वामी (Shivakumara Swami) का निधन हो गया है। स्वामी जी की नाजुक हालत को जाने पर वीवीआईपी लोगों का तांता लगना शुरू हो गया था। बृहस्पतिवार को कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री जी. परमेश्वर ने मठ पहुंचकर स्वामी जी का हाल जाना था।

सिद्धगंगा मठ के प्रमुख स्वामी शिवकुमार का 111 साल की उम्र में निधन
X
कर्नाटक के तुमकुरु स्थित सिद्धगंगा मठ के प्रमुख डॉ. शिवकुमार स्वामी (Shivakumara Swami) का निधन हो गया है। स्वामी जी की नाजुक हालत को जाने पर वीवीआईपी लोगों का तांता लगना शुरू हो गया था। बृहस्पतिवार को कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री जी. परमेश्वर ने मठ पहुंचकर स्वामी जी का हाल जाना था।
इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने अपने बेटे राघवेंद्र के साथ मठ पहुंचकर स्वामी जी का हाल जाना था। पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता जगदीश शेट्टार ने भी स्वामी जी का हाल जाना था। डॉ स्वामी (Shivakumara Swami) के स्वास्थ्य का हाल जानने के लिए देश विदेश से वीवीआईपी लोगों के आने की संभावना है। लोगों की सुविधा के लिए तुमकुरु के बाहर हेलिपैड बनाए जा रहे हैं।

वेंटीलेटर पर हैं स्वामी जी

स्वामी जी की तबीयत खराब होने के बाद मठ में बड़ी संख्या में भक्त जमा हो गए हैं। फिलहाल उन्हें स्वामी जी के दर्शन की अनुमति नहीं दी जा रही है। स्वामी जी के निजी चिकित्सक डॉक्टर
परमेश पहले ही कह चुके हैं कि स्वामी जी इस समय वेंटीलेटर पर हैं। अनुयायियों से आग्रह किया गया है कि उनके दर्शन के लिए न आएं।
क्योंकि किसी को भी उनके दर्शन की इजाजत नहीं है। साथ ही सिद्धगंगा मठ की सुरक्षा भी कड़ी कर दी गई है। आपको बता दें कि पिछले महीने ही चेन्नई के एक निजी अस्पताल में स्वामी जी के पित्ताशय और यकृत की बाईपास सर्जरी की गई थी।

कौन हैं स्वामी जी

कर्नाटक के सभी 30 जिलों में मठ हैं। जातीय समीकरण के चलते मठों का दबदबा है। जो राजनीतिक दलों को अपनी ओर आकर्षित करता है। राज्य में सबसे अधिक दबदबे वाले लिंगायत समुदाय की संख्या 18 फीसदी है। इस समुदाय का मुख्य मठ सिद्धगंगा को भाजपा का समर्थक माना जाता है। सिद्धगंगा मठ बेंगलूरू से 80 किलोमीटर दूर तुमकुरु में है। डॉ शिवकुमार स्वामी इस मठ के प्रमुख हैं। उनकी उम्र 111 साल हो गई है। राज्य में इन मठों की संख्या 400 से ज्यादा है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story